Monday , December 18 2017

ख़वातीन तहफ़्फुज़ात बिल की मंज़ूरी का मुतालिबा

सी पी आई एम की मर्कज़ी कमेटी के रुक्न पी के श्रिमती वाहिदा ख़ातून रुक्न पार्लियामेंट जो केरला की नुमाइंदगी करती हैं ने कहा कि मोदी को देरीना क़ानूनसाज़ी को तर्जीह देना चाहिए ताकि अपने क़ौल को अमल के ज़रीये साबित करसके। उन्होंने कहा

सी पी आई एम की मर्कज़ी कमेटी के रुक्न पी के श्रिमती वाहिदा ख़ातून रुक्न पार्लियामेंट जो केरला की नुमाइंदगी करती हैं ने कहा कि मोदी को देरीना क़ानूनसाज़ी को तर्जीह देना चाहिए ताकि अपने क़ौल को अमल के ज़रीये साबित करसके। उन्होंने कहा कि बी जे पी को अब ऐवान में अपने बलबूते पर अक्सरीयत हासिल है।

हुकूमत को इस बिल की मंज़ूरी में किसी मुख़ालिफ़त का सामना नहीं होगा इस लिए उसे चाहिए कि इस बिल को ज़ेर‍-ए‍‍-इलतेवा ना रखे। सी पी आई कट और बाएं बाज़ू की पार्टीयां मोदी हुकूमत पर इंतेख़ाबात तैनात की तकमील केलिए दबा डालेंगी। बहैसीयत ख़ातून उन्हें ख़वातीन तहफ़्फुज़ात बिल की मंज़ूरी से ख़ुसूसी दिलचस्पी है जो फ़िलहाल ज़ेर‍-ए‍‍-इलतेवा है।

वो चाहती हैं कि इसे जल्द अज़ जल्द मंज़ूर किया जाये। श्रिमती को कंवर इंतेख़ाबी हलक़े में गिरफ़्तार किया गया था। जब कि इस हलक़े के रुक्न पार्लियामेंट कांग्रेस के के सुधाकरन थे। उन्होंने कहा कि ख़वातीन के समाज में मर्तबे में इज़ाफ़ा और उन्हें मर्दों के मुसावी मौक़िफ़ देना और उनके तहफ़्फ़ुज़ को यक़ीनी बनाना ज़रूरी है।

ख़वातीन के तहफ़्फ़ुज़ के लिए कई क़वानीन मौजूद हैं लेकिन बदक़िस्मती से इन तमाम में कोताहियां पाई जाती हैं। नई हुकूमत को चाहिए कि इन कोताहियों को दूर करने की पहल करें और ख़वातीन की हिफ़ाज़त को यक़ीनी बनाने के लिए सख़्त क़ानून मंज़ूर करे।

TOPPOPULARRECENT