Tuesday , June 19 2018

ग़ाज़ा में 80 से ज़ाइद मुक़ामात पर रात भर बमबारी

ग़ाज़ा सिटी, २० नवंबर (पीटीआई) इसराईल ने फ़लस्तीन के अवाम पर मज़ालिम का सिलसिला जारी रखा और कल रात ग़ाज़ा में 80 से ज़ाइद मुक़ामात पर ख़तरनाक बमबारी की गई जिसके नतीजा में ग़ाज़ा का पुलिस हेडक्वार्टर ज़मीन दोज़ हो गया और छः दिन से जारी इस बमबारी म

ग़ाज़ा सिटी, २० नवंबर (पीटीआई) इसराईल ने फ़लस्तीन के अवाम पर मज़ालिम का सिलसिला जारी रखा और कल रात ग़ाज़ा में 80 से ज़ाइद मुक़ामात पर ख़तरनाक बमबारी की गई जिसके नतीजा में ग़ाज़ा का पुलिस हेडक्वार्टर ज़मीन दोज़ हो गया और छः दिन से जारी इस बमबारी में जांबाहक़ होने वालों की तादाद 100 से मुतजाविज़ हो गई ।

ग़ज़ा में आम शहरीयों को निशाना बनाने का सिलसिला जारी है और ताज़ा हमलों में कम अज़ कम 21 अफ़राद जांबाहक़ हो गए । एक बम मीडीया की इमारत पर गिरा और उसे बुरी तरह नुक़्सान पहुंचा। इन हालात में मिस्र ने फ़रीक़ैन के माबैन मुसालहत की कोशिशें तेज़ कर दी है ।

अक़वाम-ए-मुत्तहिदा जनरल सेक्रेटरी बान की मून ने फ़ौरी जंग बंदी पर ज़ोर दिया और वो क़ाहिरा में मुसालहती बातचीत में शिरकत भी करने वाले हैं । इसराईल के हरतज़ अख़बार के मुताबिक़ साहिली इलाक़ा में ऑप्रेशन पिलर आफ़ डीफ़ेंस शुरू होने के बाद से अब तक मरने वालों की तादाद 98 होगई है इन में एक तिहाई से ज़ाइद का लड़ाई से कोई ताल्लुक़ नहीं था ।

इसका वाज़िह मतलब ये है कि वो बेक़सूर अवाम थे । इसराईली डीफ़ेंस फोर्सेस ने मिज़ाईल हमला में नौ फ़लस्तीनीयों की ग़लती से हलाकत का एतराफ़ किया और कहा कि इस हमला का असल निशाना हमास का वो शख़्स था जो राकेट प्रोग्राम चला रहा था । फ़ौजी सरबराह के तर्जुमान यवाओ मर्दी चाय ने इसराईल के चैनल 2 टेलीविज़न को बताया कि हमास राकेट लॉंचिंग यूनिट सरबराह यहया रबीया को हम निशाना बनाने वाले थे लेकिन ग़लती से आम शहरी इस हमले की ज़द में आ गए ।

इसराईल ने 41किलोमीटर तवील और 6 ता 12किलोमीटर अरीज़ तंग ग़ाज़ा पट्टी पर रात भर मुसलसल बमबारी की । ज़मीनी और समुंद्री रास्तों से ये बमबारी की जाती रही और इसराईल ने यहां तक तैयारी कर ली है कि मुसालहती ( आपसी) बातचीत नाकाम होने की सूरत में ज़मीनी लड़ाई शुरू की जाए ।

महलोकीन की तादाद में ग़ैरमामूली इज़ाफ़ा और ख़वातीन-ओ-बच्चों की कसीर तादाद ज़द में आने के पस-ए-मंज़र में वज़ीर-ए-आज़म इसराईल बिंजा मिन नितिन याहू ने कहा कि उन्होंने आलमी क़ाइदीन को ये यक़ीन दहानी कराई है कि इसराईल हत्तल इमकान कोशिश करेगा कि आम शहरीयों की हलाकतों को रोका जाए ।

दूसरी तरफ़ बांन की मून ने ये तशद्दुद में मुसलसल इज़ाफ़ा पर तशवीश का इज़हार किया । उन्होंने कहा कि एक ही ख़ानदान के 10 से ज़ाइद अरकान की मौत और इसराईली शहरीयों पर मुसलसल राकेट फ़ायर किए जाने के वाक़ियात पर उन्हें काफ़ी तशवीश है ।

क़ाहिरा में हमास के सीनीयर ओहदेदारों ने कहा कि मिस्र इसराईल के साथ बातचीत में सालसी का किरदार अदा कर रहा है ताकि ख़ूँरेज़ी का ख़ातमा हो सके लेकिन फ़िलहाल तवज्जा जंग बंदी की मुद्दत में इज़ाफ़ा पर मर्कूज़ हैं। हमास के लिए क़ाबिल-ए-क़बूल सुलह में अमेरीका की जानिब से तयक्कुन भी शामिल हैं जो इसराईल का ज़बरदस्त हामी है ।

हमास के मुताबिक अमेरीका को इस बात की तमानीयत देनी होगी कि सुलह की शराइत की ख़िलाफ़वर्ज़ी नहीं की जाएगी ।इसराईली सफ़ीर भी बातचीत के लिए कल क़ाहिरा पहुंच गए हैं। सदर मिस्र मुहम्मद मर्सी ने दरीं असना हमास के सरबराह ख़ालिद मशाल और इस्लामी जिहाद के सरबराह अबदुल्लाह सालेह से मुलाक़ात कर के जारहीयत के ख़ातमा के लिए मिस्री कोशिशों से उन्हें वाक़िफ़ करवाया ।

इसराईल के वज़ीर-ए-ख़ारजा ओगडोर लीवर मियान ने कहा कि सुलह के लिए अव्वलीन शर्त ग़ाज़ा से तमाम हमले बंद कर देना है । तमाम मुसल्लह ग्रुप्स को इसका तयक्कुन देना होगा । वज़ीर-ए-आज़म इसराईल बिंजा मिन नितिन याहू ने इंतिबाह ( Warning) दिया कि इसराईल अपनी कार्रवाई में नुमायां तौर पर तौसीअ कर सकता है।

फ़्रांस के वज़ीर-ए-ख़ारजा लॉरेंट फ़ेबियोस से बातचीत से क़बल उन्होंने ये बयान दिया । बादअज़ां फ़ेबियोस ने कहा कि इनका मुल्क सुलह के लिए सालसी का रोल करने तैयार है। उन्होंने कहा कि जंग कोई मुतबादिल (Alternative/विकल्प) नहीं है ।

इसराईल फ़ौज ने फ़िज़ाई हमलों का दिफ़ा (हिफाज़त) करते हुए कहा कि सिर्फ़ हमास के कारकर्द मुवासलात को निशाना बनाया जा रहा है ताकि इसराईली शहरीयों की हलाकतों में मुम्किना हद तक कमी की जा सके । वज़ीर-ए-ख़ारजा बर्तानिया विलियम हेग ने कहा कि ग़ाज़ा पर ज़मीनी हमले से इसराईल की बैरूनी ताईद और हमदर्दी ख़त्म हो जाएगी जो उन्हें फ़िलहाल हासिल है ।

सदर फ़लस्तीन महमूद अब्बास जो मग़रिबी किनारे तक महिदूद ( सीमित) हैं अवाम पर इसराईल के ख़िलाफ़ पुरअमन मुज़ाहिरों के लिए ज़ोर दे रहे हैं । 500 मिस्री कारकुन ग़ाज़ा पट्टी पहुंच चुके हैं और उन्होंने शिफ़ा हॉस्पिटल का दौरा करते हुए फ़लस्तीनी अवाम से इज़हार-ए-यकजहती किया है ।

इस दौरान अमेरीकी सेक्रेटरी आफ़ स्टेट हीलारी क्लिन्टन ने इस मौक़िफ़ का इआदा किया कि इसराईल को अपने दिफ़ा का हक़ हासिल है । उन्होंने आलमी क़ाइदीन से जारी कशीदगी कम करने के लिए अपना असर-ओ-रसूख़ इस्तेमाल करने की ख़ाहिश की ।

TOPPOPULARRECENT