Saturday , December 16 2017

ग़ैर जांबदार अम्पायरों का मुस्तक़बिल गौरतलब : आई सी सी

लंदन 20 जुलाई : एशज़ सीरीज़ के पहले टेस्ट में एम्पायरिंग के मसले ने आई सी सी को ग़ैर जांबदार अम्पायरों मुस्तक़बिल के मुताल्लिक़ सोचने पर मजबूर कर दिया है।

लंदन 20 जुलाई : एशज़ सीरीज़ के पहले टेस्ट में एम्पायरिंग के मसले ने आई सी सी को ग़ैर जांबदार अम्पायरों मुस्तक़बिल के मुताल्लिक़ सोचने पर मजबूर कर दिया है।

उस वक़्त आई सी सी का इलियट पैनल 12 अम्पायरों पर मुश्तमिल है जिस में चार अम्पायर्स अलीम डार, कुमार धर्मा सेना, मराइस अरासमोस और टोनी हल एशज़ सीरीज़ के लिए दस्तयाब होंगे क्योंकि इन में कोई इंगलैंड या ऑस्ट्रेलिया से ताल्लुक़ नहीं रखता इस लिए यही चार अम्पायर अगले छः माह के दौरान खेले जाने वाले आठ एशज़ टेस्ट मुक़ाबलों में ख़िदमात अंजाम देंगे।

आई सी सी ने हाल में न्यूज़ीलैंड के बल्ली बाओडन और पाकिस्तान के असद रऊफ़ की इलियट पैनल से तनज़्ज़ुली की है। आई सी सी के चीफ़ ऐगज़ीक्यूटिव डेविड रिचर्डसन का कहना है कि ग़ैर जांबदार अम्पायरों से मुताल्लिक़ सूरत-ए-हाल एक मर्तबा फिर संजीदगी से ग़ौर किए जाने के काबिल होगई है।

उनका कहना है कि डी आर एस की वजह से अब ग़ैर जांबदार अम्पायरों की ज़रूरत इतनी नहीं रह गई जो माज़ी में थी, मेरा ये मतलब हरगिज़ नहीं कि माज़ी में अम्पायरों की जांनिबदारी का धोका दही का मुज़ाहरा करते रहे हैं। उन्होंने मज़ीद कहा है कि थर्ड अम्पायर के किरदार को वुसअत देने के बारे में तजुर्बा का आग़ाज़ कर दिया गया है।

मौजूदा एशज़ सीरीज़ के दूसरे टेस्ट में थर्ड अम्पायर को टी वी रीप्ले की सहूलत दी गई है ताकि वो इस फ़ैसले पर मुद्दाखिल‌त करसके जिस में वो समझे कि मैदान पर मौजूद अम्पायर से ग़लती होगई है।

TOPPOPULARRECENT