Friday , December 15 2017

ज़बरदस्त बारिश से सैलाब ज़रदगान की मुश्किलात में इज़ाफ़ा

चीफ मिनिस्टर उमर अब्दुल्लाह के फ़ौरी राहत रसानी के अहकाम सैंकड़ों अफ़राद जो तबाहकुन सैलाब में अपने मकान मुनहदिम होजाने के बाद खेमों में मुक़ीम हैं। कल ज़बरदस्त बारिश की वजह से उन की मुश्किलात में मज़ीद इज़ाफ़ा होगया है।

चीफ मिनिस्टर उमर अब्दुल्लाह के फ़ौरी राहत रसानी के अहकाम

सैंकड़ों अफ़राद जो तबाहकुन सैलाब में अपने मकान मुनहदिम होजाने के बाद खेमों में मुक़ीम हैं। कल ज़बरदस्त बारिश की वजह से उन की मुश्किलात में मज़ीद इज़ाफ़ा होगया है।

श्रीनगर में कल 23.6 मिलीमीटर बारिश रिकॉर्ड की गई और आज मज़ीद बारिश की पेश कियासी की गई है। चीफ मिनिस्टर जम्मू-ओ-कश्मीर उमर अब्दुल्लाह ने आज रियासती इंतेज़ामिया को हिदायत दी है कि अंदरून एक हफ़्ता 75 हज़ार रुपये बतौर उबूरी इमदाद इन ख़ानदानों को फ़ौरी अदा कर दिए जाएं जिन के रिहायशी मकानात गुज़श्ता माह सैलाब की वजह से मुनहदिम होचुके हैं।

एक आला सतही नगर इनकार इजलास की सदारत करते हुए ताकि राहत रसानी और बाज़ आबादकारी की कार्रवाई में रफ़्तार पैदा की जा सके । चीफ मिनिस्टर ने कहा इक्का तमाम डिप्टी कमिशनर को इस सिलसिले में हिदायत जारी करदी जानी चाहिए।

उन्होंने डिप्टी कमिशनर से कहा कि राहत रसानी की तकमील अंदरून एक हफ़्ता होजाने चाहिए । इजलास में शरीक सरकारी ओहदेदारों से उन्हों ने कहा कि मसला की यकसूई मुक़र्रर वक़्त के अंदर करने से क़ासिर रहने पर किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि जो मकान मुनहदिम होचुके हैं, उन के मालिकों को मुआवज़ा की अदाएगी होजाने चाहिए और उस की इत्तेला उन्हें दी जानी चाहिए।

TOPPOPULARRECENT