Saturday , January 20 2018

ज़बीहा के लिए गाय की फ़रोख़त भी ममनू

हैदराबाद सिटी पुलिस ने वार्निंग दी कि बकरीद के मौके पर आंध्र प्रदेश के क़ानून इंसिदाद गावकुशी और तहफ़्फ़ुज़ हैवानात की ख़िलाफ़वरज़ी में शामिल अफ़राद के ख़िलाफ़ सख़्त तरीन कार्रवाई की जाएगी।

हैदराबाद सिटी पुलिस ने वार्निंग दी कि बकरीद के मौके पर आंध्र प्रदेश के क़ानून इंसिदाद गावकुशी और तहफ़्फ़ुज़ हैवानात की ख़िलाफ़वरज़ी में शामिल अफ़राद के ख़िलाफ़ सख़्त तरीन कार्रवाई की जाएगी।

एक सरकारी बयान में कहा गया हैके आंध्र प्रदेश अनसददाद गावकुशी को तहफ़्फ़ुज़ हैवानात क़ानून 1977 के तहत गाय , बछड़ों और भैंसों की फ़रोख़त पर सख़्ती से साथ ममनू है।

बयान में ये भी कहा गया हैके अगर कोई ज़बीहा के मक़सद से इन जानवरों की फ़रोख़त के ज़रीये क़ानून की ख़िलाफ़वरज़ी करता है तो उस को क़ानून के मुताबिक़ सज़ा दी जाएगी। पुलिस ने मुख़्तलिफ़ मसालख़ घरों के इंतेज़ामीया और मुंतज़मीन को हिदायत भी की है वो ईद उलअज़हा के मौके पर अपने अहातों में सिर्फ़ बैल फ़रोख़त करें। ईद-उल-अज़हा के पेशे नज़र पुलिस ओहदेदारों ने पिछ्ले रोज़ गोलकेंडा , लंगर हउज़ , नामपली और मुशीराबाद के इलाक़ों में वाक़्ये मसालख़ घरों के मुंतज़मीन-ओ-इंतेज़ामीया के नुमाइंदों की मीटिंग मुनाक़िद किया था। मीटिंग के दौरान इस बात का इलम हुआ के ईद-उल-अज़हा के दौरान गाय , भैंसों वग़ैरा को भी फ़रोख़त किया जा रहा है।

TOPPOPULARRECENT