Wednesday , December 13 2017

ज़हनी-ओ-जिस्मानी माज़ूर बच्चों का व्हेल चेयर(मज़ुरें की कुर्सी ) पर मुख़्तलिफ़(कई अंदाज़) अंदाज़ का डांस

माज़ूरी कभी भी ज़िंदगी जीने की राह(जीना) में रुकावट(दरार) नहीं बन सकती है और ये बात हिंदूस्तान से ताल्लुक़ रखने वाले ज़हनी-ओ-जिस्मानी माज़ूर बच्चों ने साबित कर दिखाई है।

माज़ूरी कभी भी ज़िंदगी जीने की राह(जीना) में रुकावट(दरार) नहीं बन सकती है और ये बात हिंदूस्तान से ताल्लुक़ रखने वाले ज़हनी-ओ-जिस्मानी माज़ूर बच्चों ने साबित कर दिखाई है।

नई दिल्ली से ताल्लुक़ रखने वाली एक समाजी तंज़ीम( सोसाइटी ) के माज़ूर बच्चों ने मुत्तहदा अरब इमारात में व्हेल चेयर(मज़ुरें की कुर्सी ) पर मुख़्तलिफ़ (कई अंदाज़) अंदाज़ के डांस असटाईल पेश कर के देखने वालों को दंग करदिया।

गूंगे, बहरे और बीनाई से महरूम बच्चों ने व्हेल चेयरज़ को इंतिहाई महारत से अपने फ़न का हिस्सा बनाते हुए ना सिर्फ सूफ़ी डांस किया बल्कि व्हेल चेयरज़ पर ही कत्थक, योगा और मार्शल आर्टस का भी शानदार मुज़ाहरा करते हुए हाज़िरीन को बुला इख़तियार दाद देने(तारीफ ) पर मजबूर करदिया।

TOPPOPULARRECENT