Wednesday , December 13 2017

ज़हीर ख़ान इंडियन बौलिंग के सचिन तेंदुलकर

कोलंबो, २३ सितंबर (पी टी आई) हिंदूस्तानी कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने आज जद्द-ओ-जहद से दो-चार स्ट्राईक बौलर ज़हीर ख़ान की मुदाफ़अत (बचाव) करते हुए उन्हें इंडियन बौलिंग का सचिन तेंदुलकर क़रार दिया लेकिन साथ ही इंगलैंड के ख़िलाफ़ कल यहां आख़ि

कोलंबो, २३ सितंबर (पी टी आई) हिंदूस्तानी कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने आज जद्द-ओ-जहद से दो-चार स्ट्राईक बौलर ज़हीर ख़ान की मुदाफ़अत (बचाव) करते हुए उन्हें इंडियन बौलिंग का सचिन तेंदुलकर क़रार दिया लेकिन साथ ही इंगलैंड के ख़िलाफ़ कल यहां आख़िरी वर्ल्ड T20 ग्रुप मैच के लिए टीम लाईन अप में चंद तबदीलीयों का इशारा दिया।

धोनी ने मा क़बल ( मैच से पहले) मैच मीडीया से गुफ़्तगु के दौरान कहा, जब कोई बौलर अच्छे र्धम में ना हो तो इस के ख़िलाफ़ जारिहाना अंदाज़ इख़तियार करना आसान होता है। जहां तक मेरी राय है, ज़हीर हिंदूस्तानी बौलिंग अटैक के सचिन तेंदुलकर हैं।

वो कई साल से बौलिंग यूनिट की क़ियादत करते आए हैं। उन्होंने मज़ीद ( ये भी) कहा, वो हो सकता है गुज़श्ता चंद मुक़ाबलों में ज़्यादा मोअस्सर नहीं रहे लेकिन ऐसे हालात में दीगर को अपना मयार ( हौसला) बुलंद करना चाहीए। मेरा मानना है बस कुछ वक़्त की बात है कि फ़ाम में वापस आ जाएंगे।

ताहम ( यद्वपी) धोनी ने कुछ मुहतात ( दूर) अंदाज़ इख़तियार किया जब पूछा गया कि आया वो ब दस्तूर ज़हीर के ताईदी (समर्थक) रहेंगे चाहे बौलर का ख़राब मरहला तवील हो जाए। ये सवाल का जवाब देना मुश्किल है। ज़ाहिर है इस का इन्हिसार ( निर्भरता) फॉर्मट पर है।

मेरी राय में वो तजरबाकार (अनुभवी) क्रिकेटर हैं लेकिन आप को फॉर्मट पर भी नज़र डालना होगा। इस फॉर्मट में आप को बहुत ज़्यादा मैच्स नहीं मिलते हैं। अब जबकि Super Eights मरहले में एक मुक़ाम की तौसीक़ ( पुष्टी) हो चुकी है, धोनी ने इशारा दिया कि इंगलैंड के ख़िलाफ़ अपने मैच के लिए क़तई XI में चंद तबदीलीयां करने के मंसूबे हैं।

हम टीम में कुछ तबदीलीयों के लिए कोशां हैं। ज़ाहिर है हम क़तई XI के नाम मैच के दिन ही करते हैं। हम तो यही चाहते हैं कि सुपर एटस में हमारी शुरूआत से क़बल हमारे 15 खिलाड़ियों में ज़्यादा से ज़्यादा को कुछ प्रैक्टिस हासिल हो जाए। वीरेंद्र सहवाग को कल के नेट सेशन के दौरान उंगलीयों पर ज़रब ( चो‍ट) लगी लेकिन धोनी ने ज़ोर दिया कि हर कोई बिशमोल ( जिसमें की) वीरू फिट है।

कियून पैटर्न की गैरहाज़िरी का नागुज़ीर ( जरूरी/ अनिवार्य) सवाल भी उभरा और धोनी ने एतराफ़ किया कि कियून जैसे मयार के किसी खिलाड़ी का मुतबादिल ( अदल बदल) ढूंढना मुश्किल है। पीटरसन जैसे खिलाड़ी का बिलख़सूस इस फॉर्मट में मुतबादिल तलाश करना निहायत मुश्किल है।

नीज़ ये हक़ीक़त भी कि वो तमाम फॉर्मेट्स में अच्छा मुज़ाहरा ( प्रदर्शन) करते हुए फ़र्क़ पैदा कर सकता है, उन्हें ख़ास खिलाड़ी के तौर पर पेश करता है। एक अंग्रेज़ सहाफ़ी ने पूछा कि के पी के मुक़ाबिल हक़ीक़त में इन का क्या प्लान था, और धोनी ने फ़ौरी जवाब दिया, हमें मालूम था कि वो स्क्वाएड में शामिल नहीं हैं, इस लिए हम ने कुछ भी मंसूबा नहीं बनाया।

ताहम इंडियन कैप्टन ने इंगलैंड टीम की भरपूर तारीफ़ की जिस तरह उन्होंने कल अफ़्ग़ानिस्तान को शिकस्त दी। धोनी ने ब्यान किया, हाँ, ये इंगलैंड टीम की तरफ़ से निहायत अच्छा परफ़ार्मेन्स रहा। लेकिन उन की मुसबत बातों पर नज़र दौड़ाने की बजाय हमें ख़ुद अपनी चीज़ों के ताल्लुक़ से फ़िक्र करने और देखने की ज़रूरत है कि जीत के लिए हम क्या कर सकते हैं।

TOPPOPULARRECENT