Tuesday , December 19 2017

ज़हीर ख़ान को मुस्तक़बिल पर ग़ौर करना ज़रूरी : द्रवि़ड

साबिक़ कप्तान राहुल द्रवि़ड का एहसास है कि ज़हीर ख़ान के लिए अब अपने मुस्तक़बिल के ताल्लुक़ से ग़ौर-ओ-ख़ौज़ करने का वक़्त आचुका है क्योंकि सीनियर पेसर के लिए इस साल के आख़िर हिंदुस्तान जब इंगलैंड का दौरा करेगा तो पाँच टेस्ट मैचों की सख़्त

साबिक़ कप्तान राहुल द्रवि़ड का एहसास है कि ज़हीर ख़ान के लिए अब अपने मुस्तक़बिल के ताल्लुक़ से ग़ौर-ओ-ख़ौज़ करने का वक़्त आचुका है क्योंकि सीनियर पेसर के लिए इस साल के आख़िर हिंदुस्तान जब इंगलैंड का दौरा करेगा तो पाँच टेस्ट मैचों की सख़्ती झेलना मुश्किल रहेगा।

ज़हीर जिन्होंने चोट‌ के सबब तवील वक़फ़ा के बाद जुनूबी अफ़्रीक़ा और न्यूज़ीलैंड के मायूसकुन दौरों में टेस्ट टीम में वापसी की वो बैटस्मेनों को परेशान करने में नाकाम रहे। अगरचे उन्होंने 51 ओवर्स फेंके और न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ हालिया विलिंगटन टेस्ट की दूसरी इनिंग में पाँच विकेटस लिए लेकिन वो कोई ख़ास मुतास्सिर कुन नज़र नहीं आए।

द्रवि़ड के हवाले से ई एस पी एन कर्क इन्फ़ोने कहा कि क्या वो इंगलैंड में पाँच टेस्ट मैचों की थकन बर्दाश्त करसकते हैं? मुझे इस का यक़ीन नहीं ।मेरे ख़्याल में अब उन्हें ये सवाल ख़ुद से काफ़ी संजीदगी के साथ पूछने की ज़रूरत है। वो यक़ीनन ऐसे खिलाड़ी के तौर पर इख़तताम नहीं चाहेंगे जो आख़िरी मराहिल में जद्द-ओ-जहद भी करता नज़र आए।

92टसट में 311विकटों के साथ ज़हीर कपिल देव के बाद हिंदूस्तान के दूसरे कामयाब बौलर‌ हैं लेकिन उनका कैरियर ज़ख़मों से बदहाल रहा है। दडविड ने कहा कि वो हरगिज़ पसंद नहीं करेंगे कि ज़हीर पस्त हौसले के साथ अपने कैरियर का खत्म‌ करें।

TOPPOPULARRECENT