Monday , May 28 2018

ज़ाबता अख़लाक़ से हुकूमत की कारकर्दगी ग़ैर मुतास्सिर: चिदम़्बरम

मर्कज़ी वज़ीर फाईनांस‌ पी चिदम़्बरम ने कहा कि ज़ाबता अख़लाक़ के नफ़ाज़ से मर्कज़ी काबीना अपने फ़ैसले आइद करदा हुदूद के अंदर करना जारी रखेगी। हुकूमत की कारकर्दगी इंतेख़ाबात के ऐलान के बाद रुक नहीं जाएगी। उन्होंने कहा कि काबीना के इजलास

मर्कज़ी वज़ीर फाईनांस‌ पी चिदम़्बरम ने कहा कि ज़ाबता अख़लाक़ के नफ़ाज़ से मर्कज़ी काबीना अपने फ़ैसले आइद करदा हुदूद के अंदर करना जारी रखेगी। हुकूमत की कारकर्दगी इंतेख़ाबात के ऐलान के बाद रुक नहीं जाएगी। उन्होंने कहा कि काबीना के इजलास आख़िरी वक़्त तक जारी रहेंगे।

काबीना पालिसीज़ की बुनियाद पर किए हुए फ़ैसलों की मंज़ूरी देगी। हुकूमत की हस्ब-ए-मामूल कारकर्दगी जारी रहेगी। उन्होंने कहा कि इलेक्शन कमीशन ने चंद तहदीदात आइद की हैं। ज़ाबता अख़लाक़ नाफ़िज़ होचुका है लेकिन हम इस बात का ख़्याल रखेंगे कि हुकूमत की कारकर्दगी रुकने ना पाए।

उन्होंने कहा कि हुकूमत ज़ाबता अख़लाक़ के नफ़ाज़ के बाद कुछ कर सकती है या नहीं कर सकती, इस के बारे में गलतफहमियां हैं। वो सरकारी बैंकों की कारकर्दगी का जायज़ा लेने के बाद प्रेस कान्फ्रेंस से ख़िताब कररहे थे। उन्होंने कहा कि ज़ाबता अख़लाक़ के नफ़ाज़ से आर बी आई की जानिब से नए बैंकों को लाईसैंस का इजरा मुतास्सिर नहीं होगा।

फ़रोग़ रास्त ग़ैरमुल्की सरमायाकारी बोर्ड जो बैरून-ए-मुल्क सरमायाकारी की तजावीज़ को मंज़ूरी देता है, फ़ैसले करना जारी रखेगा। हस्ब-ए-मामूल कारोबारी सरगर्मी जारी रहेगी। फ़ीफ़ा का आइन्दा इजलास कल मुक़र्रर है। इलेक्शन कमीशन ने कहा है कि ज़ाबता अख़लाक़ हुकूमत और सियासी पार्टीयों दोनों के लिए है।

TOPPOPULARRECENT