Sunday , December 17 2017

ज़ालिमों की पुश्तपनाही का तदारुक ज़रूरी

सिटीज़न कलब सिद्दिपेट में भारत सोसाइटी डीवलपमेंट फ़ोर्स के ज़ेरे एहतेमाम निर्भया की इजतिमाई इस्मत रेज़ि वाक़िया होकर एक साल होने पर सिटीज़न कलब में जलसे का इनइक़ाद अमल में आया।

सिटीज़न कलब सिद्दिपेट में भारत सोसाइटी डीवलपमेंट फ़ोर्स के ज़ेरे एहतेमाम निर्भया की इजतिमाई इस्मत रेज़ि वाक़िया होकर एक साल होने पर सिटीज़न कलब में जलसे का इनइक़ाद अमल में आया।

मेहमान ख़ुसूसी की हैसियत से छटवें डिस्ट्रिक्ट एडीशनल जज नूर उल्लाह ग़ौरी ने शिरकत की। इस मौके पर तलबा-ए-ओ- तालिबात और अवाम ने रियाली मुनज़्ज़म की।

रियाली का इफ़्तेताह मोमबत्तियां रोशन करके डिस्ट्रिक्ट एडीशनल जज नूर उल्लाह ग़ौरी ने किया। रियाली शहर के मुख़्तलिफ़ रास्तों से गुज़रते हुए सिटीज़न कलब पहुंची।

नूर उल्लाह ग़ौरी ने जलसा से ख़िताब करते हुए कहा कि ख़वातीन और लड़कीयों पर किसी भी किस्म की ज़ुलम-ओ-ज़्यादती होने पर उन ज़ालिमों को सज़ा देने के लिए क़वानीन मौजूद हैं।

उन्होंने कहा कि ज़ुलम करने वाले ख़ातियों को बचाने के लिए ज़ी असर लोगों की ज़रूरत है। उन्होंने ख़वातीन को तलक़ीन की के हौसला-ओ-हिम्मत के साथ मुक़ाबला करें और समाज में तबदीली लाने के लिए हर फ़र्द अपना फ़रीज़ा समझते हुए समाज में शऊर और इन्क़िलाब लाने की कोशिश करें।

नूर उल्लाह ग़ौरी ने समाज में शऊर बेदारी पैदा करने वाले एसी रज़ाकार तंज़ीम की सताइश की। उन्होंने कहा कि एसी तंज़ीमों को आगे आना और अपना फ़र्ज़ निभाने के लिए जद्द-ओ-जहद करनी चाहीए।

जस्टिस राजिंदर, जस्टिस कृष्णा मूर्ती और चन्द्र शेखर ने जलसे को मुख़ातब किया। उनके अलावा सिटीज़न कलब के सदर ए कृष्णा कुमार ने भी ख़िताब किया। ख़ानगी मदारिस के तलबा-ए-ओ- तालिबात, असातिज़ा और इंतेज़ामीया ने इस जलसे में शिरकत की।

TOPPOPULARRECENT