Tuesday , January 16 2018

फ़वाद आलम को एशिया कप ख़िताब हासिल ना करने का अफ़सोस

एशिया कप में अपनी बैटिंग की बदौलत सुर्खियों में जगह बनाने वाले बैटस्मेन फ़वाद आलम ने कहा है कि शख़्सी तौर पर अपनी कारकर्दगी से ख़ुश हूँ और कारकर्दगी के इसी मेयार को बरक़रार रखना चाहता हूँ।

एशिया कप में अपनी बैटिंग की बदौलत सुर्खियों में जगह बनाने वाले बैटस्मेन फ़वाद आलम ने कहा है कि शख़्सी तौर पर अपनी कारकर्दगी से ख़ुश हूँ और कारकर्दगी के इसी मेयार को बरक़रार रखना चाहता हूँ।

कराची पहुंचने के बाद फाईनल में सेंचुरी बनाने वाले फ़वाद आलम ने कहा कि मेरी वालिदा और वालिद और तमाम घर वालों ने मेरे लिए दुआएं कीं अगर फाईनल जीत जाते तो मुझे ज़्यादा ख़ुशी होती, मुस्तक़बिल में भी अच्छा खेल पेश करने की कोशिश करूंगा। उन्होंने कहा कि मुझ पर कारकर्दगी के लिए दबाव था में दोनों मैचों में टीम के काम आया।

तीन साल बाद पाकिस्तान क्रिकेट टीम में धुआँ दार वापसी के साथ आने वाले फ़वाद आलम एशिया कप में पाकिस्तान के लिए 188 की औसत से रन‌ बनाए। उन्हों ने दो इनिंगस‌ खेलें जिस में एक सेंचुरी थी और दूसरी निस्फ़ सेंचुरी मेडिल आर्डर बैटस्मेन उमर‌ अकमल ने 84.33 की औसत से 253 रन‌ बनाए।

उन्होंने भी एक सेंचुरी और एक निस्फ़ सेंचुरी बनाई। ओपनर अहमद शहज़ाद ने 45.60 की औसत से 228 रन‌ बनाए। शाहिद आफ़रीदी ने 34.33 की औसत से 103 रन‌ बनाए जिस में हिंदुस्तान और बंगलादेश के ख़िलाफ़ मैच विनिंग इनिंगस‌ भी शामिल थीं। मुहम्मद हफ़ीज़ ने 31.60 की औसत से 158 और कप्तान मिसबाहुल-हक़ ने 28.60 की औसत से 143 रन‌ बनाए। शरजील ख़ान ने चार मुक़ाबलों में 21 की औसत से 84 रन‌ बनाए।

बौलिंग में आफ़ स्पिनर सईद अजमल ने 11 विकटें 18.36की औसत से हासिल कीं। मुहम्मद हफ़ीज़ ने पाँच विकटें 38 की औसत से अपने नाम की। उमर‌ गुल महंगे साबित हुए उन्हों ने 52 की औसत से पाँच खिलाड़ियों को आउट किया। मुहम्मद तलहा ने 36.50 की औसत से चार विकेट हासिल किए। फ़ास्ट बौलर जुनैद ख़ान ने तीन मुक़ाबलों में 77 रन‌ दे कर एक विकेट हासिल की।

TOPPOPULARRECENT