Monday , December 18 2017

फ़हरिस्त राय दहिंदगान उर्दू में शाये करने अमजद उल्लाह ख़ालिद का मुतालिबा

चीफ मिनिस्टर एन कुमार रेड्डी को एक मकतूब रवाना करते हुए कोर्पोरेटर अमजद उल्लाह ख़ां ख़ालिद ने मुतालिबा किया कि ग्रेटर म़्यून्सिपल कोर्पोरेशन की जानिब से आज की तारीख तक उर्दू जुबान में इलेक्ट्रोरल फ़हरिस्त तबाअत(छापी) नहीं की गई ।

चीफ मिनिस्टर एन कुमार रेड्डी को एक मकतूब रवाना करते हुए कोर्पोरेटर अमजद उल्लाह ख़ां ख़ालिद ने मुतालिबा किया कि ग्रेटर म़्यून्सिपल कोर्पोरेशन की जानिब से आज की तारीख तक उर्दू जुबान में इलेक्ट्रोरल फ़हरिस्त तबाअत(छापी) नहीं की गई । इस के इलावा मज़कूरा फ़हरिस्त के फ़ार्म नंबर 6 और सहीह फ़ार्म नंबर 8 की भी तबाअत अमल में नहीं लाई गई । जब कि रियासत के दीगर अज़ला बशुमुल निज़ामाबाद , करीमनगर में मज़कूरा फ़हरिस्तों की तबाअत उर्दू जुबान में हो चुकी हैं ।

अमजद उल्लाह ख़ां ने अपने मकतूब में इस बात को वाज़िह किया कि इलेक्शन कमीशन ओफ़ इंडिया और चीफ इलेक्ट्रोरल ऑफीसर आंधरा प्रदेश ने इस ज़िमन में वाज़िह अहकामात जारी करते हुए ग्रेटर म़्यून्सिपल कोर्पोरेशन‌ को हिदायत जारी की थी । इस के बावजूद इन अहकामात को ना सिर्फ मज़कूरा महकमा ने नज़रअंदाज कर दिया बल्कि ग्रेटर म़्यून्सिपल कोर्पोरेशन‌ के आला ओहदेदारों से इलेक्ट्रोरल फ़हरिस्त के बारे में उर्दू जुबान में अदम इशाअत पर जानना चाहा तो उन ओहदेदारों की जानिब से लाइल्मी का मुज़ाहरा किया गया ।

अमजद उल्लाह ख़ां ख़ालिद ने रियासती हुकूमत की कारकर्दगी पर तन्क़ीद करते हुए कहा कि चीफ मिनिस्टर का ये मालुम‌ है कि वो सिर्फ और सिर्फ वुज़रा की ख़ुशामदी पॉलीसी या फिर तनक़ीदी तजज़िया का जायज़ा लेने में मसरूफ़ हैं जब कि अक़ल्लीयतों बिखूसूस मुस्लमानों के हर मसला की यकसूई के लिए हुकूमत का टाल मटोल से काम लेना मामूल बन चुका है ।।

TOPPOPULARRECENT