Thursday , December 14 2017

फ़हश फिल्मों का तनाज़ा, कर्नाटक के तीन वुज़रा मुस्ताफ़ी

बैंगलोर, ०९ फ़रवरी (पी टी आई) कर्नाटक असेंबली में इजलास के दौरान मोबाईल फ़ोन पर फ़हश फिल्में देखते हुए कैमरों पर पकड़े जाने वाले बी जे पी के तीन वुज़रा ने अपनी पार्टी की क़ियादत के हुक्म पर आज इस्तीफ़ा दे दिया।

बैंगलोर, ०९ फ़रवरी (पी टी आई) कर्नाटक असेंबली में इजलास के दौरान मोबाईल फ़ोन पर फ़हश फिल्में देखते हुए कैमरों पर पकड़े जाने वाले बी जे पी के तीन वुज़रा ने अपनी पार्टी की क़ियादत के हुक्म पर आज इस्तीफ़ा दे दिया।

नए स्कैंडल पर पशेमान बी जे पी क़ियादत ने अपनी साख को पहूंचने वाले नुक़्सानात को कम करने की कोशिश के तौर पर वज़ीर इमदाद-ए-बाहमी लक्ष्मण साउदी और वज़ीर बहबूदी ख़वातीन-ओ-इतफ़ाल सी सी पाटिल को मुस्ताफ़ी हो जाने का हुक्म दिया था जबकि वज़ीर बंदरगाह साईंस-ओ-टैक्नोलोजी कृष्णा पॉलीमर को बरतरफ़ कर दिया जिन्हों ने मुबय्यना तौर पर इन वुज़रा को ब्लू फ़िल्म फ़राहम किया था।

साउदी और पाटिल को गुज़श्ता रोज़ रियास्ती क़ानूनसाज़ असेंबली के इजलास के दौरान मोबाईल पर फ़हश फिल्मों के क्लिप्स देखते हुए पकड़ा गया था। इस वाक़िया से ना सिर्फ चीफ़ मिनिस्टर सदा न‍ंदा गौड़ की साख मसख़ हो गई है बल्कि रियासत भर में इस की मुज़म्मत की जा रही है।

इन तीनों वुज़रा, साउदी, पाटिल और पॉलीमर ने अख़बारी नुमाइंदों से कहाकि हम इस मसला पर हुकूमत और पार्टी केलिए मज़ीद उलझन-ओ-पशेमानी नहीं चाहते। हम तमाम ने मुस्ताफ़ी होने का फ़ैसला किया है। हम ने चीफ़ मिनिस्टर को मकतूब इस्तीफ़ा पेश कर दिया है और उन्हें क़बूल करने की दरख़ास्त की गई है।

बी जे पी के अहम क़ाइदीन का आज यहां एक इजलास मुनाक़िद हुआ था जिस में चीफ़ मिनिस्टर सदा नंद गौड़, सदर रियास्ती बी जे पी के एस इश्वर पा और साबिक़ चीफ़ मिनिस्टर बी एस येदि यूरप्पा और दूसरों ने शिरकत की। इजलास ने तीनों वुज़रा को तलब करते हुए मुस्ताफ़ी होजाने की हिदायत की थी।

इस से कुछ देर क़ब्ल बी जे पी के क़ौमी सदर नीतिन गडकरी ने सदा नंद गौड़ और इश्वर पा से बातचीत करते हुए तीनों वुज़रा के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने की हिदायत की थी। इस दौरान कर्नाटक क़ानूनसाज़ असेंबली में आज भी इस स्कैंडल की गूंज रही। असल अपोज़ीशन जमात कांग्रेस और जय डी उसके अरकान ने तीनों वुज़रा को बरतरफ़ करने और ऐवान की रुकनीयत के लिए नाअहल क़रार देने के इलावा उन्हें फ़िलफ़ौर गिरफ़्तार करने का मुतालिबा किया।

असेंबली इजलास का आज सुबह जैसे ही आग़ाज़ हुआ चीफ़ मिनिस्टर ने ऐवान को मतला किया कि तीनों वुज़रा मुस्ताफ़ी होचुके हैं और गवर्नर एच आर भरद्वाज इस्तीफ़े मंज़ूर कर चुके हैं। एक मुस्ताफ़ी वज़ीर साउदी ने कहाकि उन्हों ने कोई ग़लती नहीं की है और इस वाक़िया की तहक़ीक़ात के लिए स्पीकर के जी यवपया से दरख़ास्त करेंगे।

कांग्रेस ने बी जे पी को अपनी सख़्त तन्क़ीद का निशाना बनाते हुए तीनों वुज़रा की गिरफ़्तारी और ऐवान की रुकनीयत से फ़िलफ़ौर मुअत्तली का मुतालिबा किया। दो मर्कज़ी वुज़रा और सीनीयर कांग्रेस क़ाइदीन एम वीरप्पा मोईली और कपिल सिब्बल ने भी बी जे पी वुज़रा की हरकत को शर्मनाक क़रार दिया। मिस्टर मोईली ने कहाकि इन वुज़रा को फ़ौरी गिरफ़्तार किया जाना चाहीए जिन्हों ने ऐवान का तक़द्दुस पामाल किया है।

मिस्टर सिब्बल ने कहाकि अब ऐसा महसूस होता है कि बी जे पी के चंद अफ़राद के पास हर किस्म की तफ़रीह और दिल बहलाई का सामान दस्तयाब है। कभी वो सयासी तफ़रीह-ओ-दिल पहलाई करते हैं और कभी किसी और किस्म की तफ़रीह-ओ-दिल बहलाई किया करते हैं। इन तीन वुज़रा के इस्तीफ़े के बाद जुनूबी हिंद में बी जे पी की इस अव्वलीन रियास्ती हुकूमत के गुज़श्ता चार साल के दौरान मुस्ताफ़ी होने वाले वुज़रा की तादाद सात हो गई है।

इस्मत रेज़ि के इल्ज़ाम पर एक वज़ीर हालपा को सुबकदोशी के लिए मजबूर होना पड़ा था। ताज़ा तरीन स्कैंडल में तीन वुज़रा के इस्तीफ़ों के बाद सदानंद गौड़ा वज़ारत की तादाद 24 तक घट गई है जिस में 10 वज़ारतें मख़लूवा हैं।

TOPPOPULARRECENT