Sunday , July 22 2018

फ़िर्कापरस्त ताक़तों ओ‍ हिंगुतवा नज़रियात के ख़िलाफ़ जामि जद्द-ओ-जहद

अप्रैल सी पी एम ने फ़ैसला किया कि हिंदुतवा और नई मआशी पालिसीयों जैसी फ़िर्कापरस्त नज़रियात के ख़िलाफ़ मुकम्मिल जद्द-ओ-जहद की जाएगी और बाएं बाज़ू की जमहूरीयतपसंद ताक़तों को मुत्तहिद किया जाएगा।

अप्रैल सी पी एम ने फ़ैसला किया कि हिंदुतवा और नई मआशी पालिसीयों जैसी फ़िर्कापरस्त नज़रियात के ख़िलाफ़ मुकम्मिल जद्द-ओ-जहद की जाएगी और बाएं बाज़ू की जमहूरीयतपसंद ताक़तों को मुत्तहिद किया जाएगा।

अपनी 21 वीं कांग्रेस के तीसरे दिन पार्टी ने एक सियासी हिक्मत-ए-अमली को क़तईयत दी जो मुस्तक़बिल में पार्टी की सरगर्मीयों पर असरअंदाज़ होगी।

पार्टी का कहना था के पार्टी की तन्क़ीदों का असल निशाना बी जे पी ही होनी चाहीए जहां वो इक़तिदार में हो ताहम इस का मतलब ये नहीं है के कांग्रेस के साथ कहीं चुनाव इत्तेहाद किया जाएगा। पार्टी हिक्मत-ए-अमली में कहा गया है के आर एस एस और बी जे पी के ख़िलाफ़ जद्द-ओ-जहद सिर्फ़ चुनाव हिक्मत-ए-अमली की जद्द-ओ-जहद तक महिदूद नहीं होनी चाहीए।

पार्टी ने कहा कि हिंदुतवा नज़रियात और फ़िर्कावाराना ताक़तों के ख़िलाफ़ जद्द-ओ-जहद के साथ अवाम को दरपेश रोज़मर्रा के मसाइल के ख़िलाफ़ भी जामि जद्द-ओ-जहद की ज़रूरत है।

पार्टी ने एक क़रारदाद भी मंज़ूर की जिस में मुतालिबा किया गया हैके ख़ानगी शोबे में दर्ज फ़हरिस्त ज़ातों और क़बाइल को तहफ़ोज़ात फ़राहम किए जाएं और मर्कज़ पर दबाव‌ डालने के लिए एक मुहिम भी शुरू की जाये ताके उन तबक़ात को तहफ़्फुज़ात फ़राहम किए जा सकीं।

TOPPOPULARRECENT