Sunday , December 17 2017

फ़िर्क़ा परस्त ताक़तें सिर्फ मुसलमान को नहीं बल्कि मुल्क के लिए भी नुकसानदेह : कासमी

मौलाना अबुल कलाम कासमी समसी चेयरमैन सोशल एसोशिएशन फॉर एजुकेशनल एंड डेवलोपमेंट ने प्रेस रिलीज में कहा है के हिंदुस्तान सेकुलर मुल्क है। ये सेकुलर बुनियाद पर कायम है। ये एक गुलदस्ता है। हिन्दू, मुस्लिम, सिख और ईसाई सभी इस गुलदस्ता

मौलाना अबुल कलाम कासमी समसी चेयरमैन सोशल एसोशिएशन फॉर एजुकेशनल एंड डेवलोपमेंट ने प्रेस रिलीज में कहा है के हिंदुस्तान सेकुलर मुल्क है। ये सेकुलर बुनियाद पर कायम है। ये एक गुलदस्ता है। हिन्दू, मुस्लिम, सिख और ईसाई सभी इस गुलदस्ता के हसीन फूल हैं। ये गंगा जमनी तजीब के अलामत है। इस मुल्क को अच्छी तरह वही चला सकता है जो सेकुलर जेहन रखता हो।

फ़िर्क़ा परस्त ताक़तें इस मुल्क में नफरत की सियासत करके नफरत का माहौल कायम करना चाहती है। इससे मुल्क के तमाम लोगों को होशियार रहने की ज़रूरत है। फ़िर्क़ा परस्त ताक़तें सिर्फ मुसलमान का लिए नहीं मुल्क के लिए भी नुकसानदेह हैं। ऐसी ताकतों को रोकना सभों की ज़िम्मेदारी है। पार्लियामनी इंतिख़ाब करीब है। इसके लिए अभी से कोशिश की ज़रूरत है। इस के लिए ज़रूरी है के इस मुहिम में तमाम हजरात हिस्सा लें। ओलमा दानिश्वरान, काएदीन और सेकुलर आवाम सभी मिल कर माहौल बनाएँ के लोग ज़्यादा से ज़्यादा पोलिंग में हिस्सा लें। खुद भी हिस्सा लें और औरतों को भी हिस्सा लेने के लिए मौके फराहम कराएं। आपस में इत्तीहाद बनाएँ और वोट को मुंतशर होने से बचाएं। ताकि फ़िर्क़ा परस्त ताक़तें इक्तेदार में न आ सकें। और इस मुल्क में मेल मोहब्बत कायम रहे।

TOPPOPULARRECENT