Friday , September 21 2018

फ़ौजी ओहदेदार पाकिस्तान के लिए जासूसी के इल्ज़ाम में गिरफ़्तार

कहते हैंके मुहब्बत की सरहदें नहीं होतीं लेकिन सरहदों की हिफ़ाज़त करने वालों की हर क़दम पर एक हद होती है।

कहते हैंके मुहब्बत की सरहदें नहीं होतीं लेकिन सरहदों की हिफ़ाज़त करने वालों की हर क़दम पर एक हद होती है।

उन्हें हद से गुज़रना बहुत महंगा साबित होसकता है। एसा ही एक वाक़िया पेश आया जिस में सरहद पार पाकिस्तान की लड़की से इंटरनेट चियाटंग ने एक हिंदुस्तानी फ़ौजी सिपाही को अहम फ़ौजी ठिकानों के बारे में पाकिस्तान के लिए जासूसी करने के इल्ज़ाम के जेल पहूँचा दिया।

बताया जाता हैके कमिशनर टास्क फ़ोर्स ने एक खु़फ़ीया ऑप्रेशन में सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन पर ताय्युनात फ़ौज के नाविक सूबेदार पट्टन कुमार पोडार को जासूसी और सरकारी राज़ अफ़शा-ए-करने के इल्ज़ाम में गिरफ़्तार करके जेल भेज दिया।

कमिशनर पुलिस हैदराबाद एम महेंद्र रेड्डी ने इस सिलसिले में तफ़सीलात बताते हुए कहा कि पट्टन कुमार पोडार फ़ौज का नायक सूबेदार है और वो शख़्सी तौर पर एक कंपनी जिस का नाम सेक्योर्ड अलाईओ है चला रहा था और अपने कारोबार के लिए रेलवे स्टेशन पर रिज़र्वेशन के लिए पहूंचने वाले अफ़राद से ताल्लुक़ात क़ायम करते हुए कारोबार को बढ़ाने की कोशिश कररहा था।

इसी दौरान सोश्यल मीडीया पर उसकी मुलाक़ात पाकिस्तानी लड़की जिस की शिनाख़्त अनोकशा अग्रवाल मुतवत्तिन झांसी उत्तरप्रदेश बताई जाती है से हुई और दोनों में इंतिहाई क़ुरबत होगई जिस के नतीजे में नायक सूबेदार उसे फेसबुक पर तो नर्गिस है जैसे अलफ़ाज़ का इस्तेमाल करते हुए उसकी तारीफ़ कररहा था।

पाकिस्तानी लड़की ने ख़ुद को झांसी की मुतवत्तिन होने का झूटा दावा किया जबकि इस का ताल्लुक़ पाकिस्तानी खु़फ़ीया तंज़ीम आई एस आई से बताया जाता है। पट्टन कुमार पोडार की दोस्ती का फ़ायदा उठाते हुए हैदराबाद और मुल्क के दुसरे इलाक़ों में मौजूद दिफ़ाई और फ़ौजी ठिकानों की तफ़सीलात हासिल करलिए। नायक सूबेदार ने फ़ौज से मुताल्लिक़ खु़फ़ीया तफ़सीलात फेसबुक के ज़रीये दिए और बादअज़ां दोनों में फ़ोन पर बातचीत होने लगी।

नाविक सूबेदार की पाकिस्तानी लड़की से फ़ोन पर मुसलइल बातचीत और सोश्यल नेटवर्किंग वैब साईट्स पर चियाटंग से मर्कज़ी इंटेलिजेंस एजेंसी चौकस होगई और इस सिलसिले में कार्रवाई करते हुए टास्क फ़ोर्स को उसे गिरफ़्तार करने के लिए इत्तेला फ़राहम की । टास्क फ़ोर्स ने गिरफ़्तार नाविक सूबेदार को सेंट्रल क्राइम स्टेशन (सी सी एस) के हवाले कर दिया और उसे अदालत में पेश करके जेल भेज दिया गया। सी सी एस पुलिस ने गिरफ़्तार फ़ौजी के ख़िलाफ़ मुजरिमाना साज़िश , इंसिदाद सरकारी राज़ इफ़शा करने वाले एक्ट और प्राइस चिट मनी सरकुलेशन एक्ट के तहत मुक़द्दमा दर्ज करते हुए उसे जेल भेज दिया। सरकारी ज़राए ने बताया कि नायक से पुलिस तफ़सीलात हासिल करेगी और अनोकशा अग्रवाल के ताल्लुक़ात दुसरे नौजवानों से होने पर भी तहक़ीक़ात की जाएगी

TOPPOPULARRECENT