Tuesday , July 17 2018

1 करोड़ से भी ज़्यादा के पेट की भूख मिटा चुके हैं ‘बिरयानी बाबा’

विजयनगरम: आज के वक़्त में जहाँ हर इंसान अपना पेट भरने के लिए मेहनत कर दो वक़्त की रोटी जूता रहा है वहीँ अल्लाह के भेजे कुछ लोग ऐसे भी हैं जो ऐसे नेक कामों में जुटे हैं जिनको देख आम आदमी को तो ताज्जुब ही होता है। ऐसा नहीं है कि अल्लाह परवरदिगार ने इन्हें किसी और मिट्टी का बना ज़मीं पर भेजा है, फर्क सिर्फ इतना है कि ऐसे इंसानों का दिल दुसरे लोगों का दर्द और जरुरत को समझता है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

ऐसे ही एक शख्श हैं आंध्रा प्रदेश के कृष्णा जिले के रहने वाले अताउल्लाह शरीफ शतज खदिरी बाबा जिन्हें लोग बिरयानी बाबा के नाम से भी जानते हैं।

biryani_preparation_1462447533

इस नेक काम की शुरुआत के बारे में इलाके के लोग और बिरयानी बाबा बताते हैं कि इस तरह लंगर की शुरुआत उनके गुरु खादर बाबा ने की थी। इस लंगर को 40 साल पहले शुरू किया गया था तब से लेकर अब तक इसे कभी रोक नहीं गया। इस बारे में बिरयानी बाबा का कहना है कि वो तो सिर्फ इस काम की देखभाल करते हैं असल शुक्रिया तो उन लोगों का है जिनके दिए दान से यह लंगर इतने सालों से चला आ रहा है।

यह लंगर चीमालापादू दरगाह के लंगर खाने में खिलाया जाता है। लंगर में मांसाहारी और शाकाहारी दोनों तरह का खान परोसा जाता है। यहाँ लगने वाले लंगर में रोजाना करीब 1000 से 1500 लोग खाना  खाते हैं और किसी किसी दिन तो 8 से10 हज़ार लोग भी लंगर खाते हैं। इतने लोगों का पेट भरने के लिए रोजाना यहाँ 2 टन बासमती चावल और कई क्विंटल चिकन का इस्तेमाल होता है।

TOPPOPULARRECENT