1.5 लाख लोग नहीं दे रहे होल्डिंग टैक्स

1.5 लाख लोग नहीं दे रहे होल्डिंग टैक्स
पटना 20 मई : दारुल हुकूमत में डेढ़ लाख होल्डिंग (तकरीबन 40 फीसद) अब भी टैक्स दायरे से बाहर हैं। लाख मुहीम चलाये जाने के बावजूद इन छूटी होल्डिंगों को टैक्स के दायरे में नहीं लाया जा सका है। इनमें कई कारोबारी आदरे भी शामिल हैं। इनमें ज़्य

पटना 20 मई : दारुल हुकूमत में डेढ़ लाख होल्डिंग (तकरीबन 40 फीसद) अब भी टैक्स दायरे से बाहर हैं। लाख मुहीम चलाये जाने के बावजूद इन छूटी होल्डिंगों को टैक्स के दायरे में नहीं लाया जा सका है। इनमें कई कारोबारी आदरे भी शामिल हैं। इनमें ज़्यादातर वैसे लोग हैं, जिन्होंने बिना नक्शा पास कराये म्युन्सिपल कॉर्पोरशन इलाके में मकान बनाया है।

मकान बनाने के बाद न तो अपने मकान का असेसमेंट करा रहे हैं और न ही म्युन्सिपल कॉर्पोरशन को टैक्स दे रहे हैं। अब कॉर्पोरशन टीम तशकील कर इन इमारतों को टैक्स के दायरे में लाने की तैयारी कर रहा है। इस टीम में टैक्स जमा करनेवाले के साथ एक दुसरे मुलाजिम की भी तकरीरी की जा रही है। इसके अलावा ज़ाती एजेंसी को वसूली में लगाने के अमल भी शुरू कर दी गयी है। इसके लिए महकमा ने टेंडर निकाल एजेंसी इंतेखाब का अमल शुरू कर दी है।

बुनयादी सहूलियत नहीं, तो टैक्स कैसा

इनमें से अधिकतर मकान वैसे इलाके में बने हैं, जहां म्युन्सिपल कॉर्पोरशन बुनयादी सहूलियत मुहैया नहीं करा सका है और उन इलाकों को कॉर्पोरशन इलेके में शामिल कर लिया गया है। इनमें रूपसपुर, रूकनपुरा, निराला नगर, विजय नगर, रानीपुर, बेगमपुर, कसवा वगैरा इलाका शामिल हैं। इसके अलावा शहर में हजारों ऐसे मकान भी हैं, जिन्हें समय के साथ काफी डेवलप कर लिया गया है, मगर टैक्स अब भी पुरानी शरह पर जमा हो रहा है।

Top Stories