1.60 लाख तालेबा के लिए सिर्फ 45000 सीटें

1.60 लाख तालेबा के लिए सिर्फ 45000 सीटें
रांची 10 मई : रियासत में मैट्रिक पास करनेवाली तालेबा की तादाद में मुसलसल अज़ाफा हो रहा है। गुजिस्ता सात सालो में मैट्रिक पास करनेवाली तालेबा की तादाद में तकरीबन एक लाख का अज़ाफा हुआ है। रियासत के आधा दर्जन जिलों में मैट्रिक इम्तेह

रांची 10 मई : रियासत में मैट्रिक पास करनेवाली तालेबा की तादाद में मुसलसल अज़ाफा हो रहा है। गुजिस्ता सात सालो में मैट्रिक पास करनेवाली तालेबा की तादाद में तकरीबन एक लाख का अज़ाफा हुआ है। रियासत के आधा दर्जन जिलों में मैट्रिक इम्तेहान पास करनेवाली तालेबा की तादाद तल्बा से अधिक है। साल 2007 में 1,05,335 तालेबा इम्तेहान में कामयाब हुई थीं। साल 2013 में मैट्रिक पास करनेवाली तालेबा की तादाद बढ़ कर 1,60,695 हो गयी है।

एक तरफ तालेबा की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है, वहीं दूसरी ओर तालेबा के पढ़ने के लिए रियासत में ख्वातीन कॉलेज नहीं है। मैट्रिक पास 1,60,695 तालेबा के पढ़ने के लिए सिर्फ 45,248 हजार सीट है। रियासत में सिर्फ एक दर्जन वाबस्तगी ख्वातीन कॉलेज है। रियासत के कायम के बाद से अब तक एक भी सरकारी ख्वातीन कॉलेज नहीं खुला है। एक लाख 15 हजार तालेबा के पढ़ने के लिए गर्ल्स स्कूल-कॉलेज नहीं है। तालेबा को मजबूरी में को-एजुकेशन वाले कॉलेजों में दाखला लेना पड़ता है।

स्कूल-कॉलेज में 45 हजार सीट
रियासत के सभी ख्वातीन कॉलेज, वाबस्तगी हज़ल डिग्री कॉलेज, मुस्तकिल वाबस्तगी इंटर कॉलेज व गर्ल्स प्लस टू स्कूल मिला कर लगभग 45 हजार सीट है। एक लाख तालेबा के लिए रियासत में ख्वातीन कॉलेज या स्कूल नहीं है।

Top Stories