Monday , December 11 2017

1000 अक़लीयती नौजवानों को 50 फ़ीसद सबसिडी पर ऑटोज़ की फ़राहमी

हुकूमते तेलंगाना ने आटो ड्राईवरस के लिए नई स्कीम बनाई है। डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर जनाब मुहम्मद महमूद अली ने इस स्कीम के मुताल्लिक़ बताया कि बेरोज़गार किराया के ऑटोज़ चला कर ज़िंदगी बसर करने वालों के लिए हुकूमत तेलंगाना ने मुनफ़रद स्कीम का ऐलान किया ताकि फाइनेन्सरों, चिट्ठी वालों और ऑटोज़ मालिकीन की हिरासानी से एक बड़े तबक़ा को राहत फ़राहम की जा सके।

मसाजिद के आइमा और मोअज़्ज़िन हज़रात के बाद अब हुकूमत बेरोज़गार अक़लीयती नौजवान बिलख़ुसुस किराया के ऑटोज़ चलाने वालों के लिए आटो मालिक बनने की स्कीम को राइज किया है। मिस्टर महमूद अली की ख़ुसूसी काविशों से स्कीम को तैयार किया गया है।

जो ग्रेटर हैदराबाद हुदूद में अमल में आऐगी। 50 फ़ीसद सब्सीडी के ज़रीए मुसलमानों के लिए राइज कर्दा इस स्कीम के तहत एक हज़ार ऑटोज़ जारी किए जाएंगे। इस ख़सूस में डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर मिस्टर महमूद अली ने कहा कि हुकूमत मुस्लिम अक़ल्लीयत के मसाइल की यक्सूई के लिए संजीदगी से अमली इक़दामात कर रही है। उन्होंने बताया कि आज ग्रेटर हैदराबाद बिलख़ुसुस पुराने शहर में ऐसे नौजवानों की अक्सरीयत है जो तालीम याफ़्ता होने के बावजूद भी ऑटोज़ चलाने पर मजबूर है।

उनकी मआशी हालत उन्हें ज़ाती ऑटोज़ के हक़दार बनने की इजाज़त नहीं देती और उन नौजवानों के कंधों पर अपने अफ़राद ख़ानदान की कफ़ालत करने की ज़िम्मेदारी है और कई अफ़राद सालों से ऑटोज़ किराया पर हासिल करते हुए ज़िंदगी बसर कर रहे हैं। उनका कोई ज़ाती आटो नहीं। ईद, तेहवार, शादी, तक़ारीब, तालीम, तिब्ब जैसे मौक़ा और मसाइल पर इन ख़ानदानों को सिवाए सूद पर क़र्ज़ हासिल करने के कोई और रास्ता नहीं रहता। इस संगीन मसअले की यक्सूई और राहत फ़राहम करने स्कीम को शुरू किया जा रहा है।

TOPPOPULARRECENT