Thursday , December 14 2017

12% तहफ़्फुज़ात, मुस्लिम नौजवानों की तरक़्क़ी के ज़ामिन : ज़ाहिद अली ख़ां

हैदराबाद 30 अक्टूबर: रियासत तेलंगाना में जारी 12% मुस्लिम तहफ़्फुज़ात तहरीक में सरकारी इक़दाम से शिद्दत पैदा हो गई है। ताहाल नुमाइंदगी पेश कर चुके मुस्लमानों ने आइन्दा भी नुमाइंदगियों को पेश करने और मज़ीद शिद्दत पैदा करने का इरादा ज़ाहिर किया है।

रियासत तेलंगाना में मुस्लमानों की हालत-ए-ज़ार को बेहतर बनाने और मुस्लमानों की हक़ीक़ी तरक़्क़ी के लिए नागुज़ीर तसव्वुर किए जा रहे 12% मुस्लिम तहफ़्फुज़ात के मुतालिबे में ख़वातीन भी आगे आरही हैं और तहरीक में ख़वातीन की शमूलीयत और हुसूल मुस्लिम तहफ़तात तक जद्द-ओ-जहद के अज़म से मुस्लमानों के हौसले बुलंद हो गए हैं।

बावसूक़ ज़राए के मुताबिक़ रियासती हुकूमत ने 12% मुस्लिम तहफ़्फुज़ात पर ताहाल पेश करदा नुमाइंदगी का जायज़ा लेने का फ़ैसला किया है और दरख़ास्त को मौजूदा तहसीलदार, आर डी ओ, कलेक्टर, दफ़ातिर से तलब किया जा रहा है ताके मुस्लमानों के मुतालिबा की शिद्दत को महसूस करने के अलावा उनकी हक़ीक़त और उनके औसत को जांचने की तैयारी जारी है।

मोतबर ज़राए के मुताबिक़ हुकूमत मुस्लमानों के मुतालिबे के साथ ये भी देखना चाहती हैके आया तेलंगाना के मुस्लमानों की कितनी तादाद तहफ़्फुज़ात का मुतालिबा कर रही है। इस बात की इत्तेला के साथ ही रोज़नामा सियासत के दफ़्तर में एक आला सतह का मीटिंग मुनाक़िद हुवी। सरपरस्त आला 12% मुस्लिम तहफ़्फुज़ात तहरीक एडीटर सियासत ज़ाहिद अली ख़ां की सदारत में मुनाक़िदा मीटिंग में 12% मुस्लिम तहफ़ज़ात के रूह आमिर अली ख़ां न्यूज़ एडीटर सियासत और तहरीक के मुशीर आला मैनेजिंग एडीटर सियासत ज़हीरुद्दीन अली ख़ां ने भी शिरकत की।

तहरीक में शिद्दत पैदा करने और हुकूमत पर दबाओ डालने के लिए ज़ाहिद अली ख़ां ने ख़ुद नलगेंडा के जलसे में शिरकत का एलान किया है। इस मौके पर नलगेंडा का एक वफ़द सियासत पहुँचा था। ज़ाहिद अली ख़ां ने कहा कि 12% मुस्लिम तहफ़्फुज़ात हमारी तरक़्क़ी के ज़ामिन हैं। होनहार नौजवान नसल की ताअमीर-ए-नौ में तहफ़्फुज़ात अहम रोल अदा कर सकते हैं चूँकि बासलाहीयत नसल मवाक़े की मार से कमज़ोर होती जा रही है और एसे वक़्त नौजवान मुस्लिम नसल की तामीर-ओ-तरक़्क़ी के लिए समाज के हर फ़र्द को खड़े रहना चाहीए चूँकि हम हमारी नसल को मज़ीद कमज़ोर होता हुआ और मजबूर नहीं देख सकते लिहाज़ा तहफ़्फुज़ात एक एसा ज़रीया हैं जिससे हमारे मसाइल काफ़ी हद तक दूर हो सकते हैं।

TOPPOPULARRECENT