Monday , November 20 2017
Home / Education / दुनिया के सभी देशों की किताबें पढ़ना चाहती हैं 13 साल की आयशा, बेहद दिलचस्प है इसके पीछे की कहानी

दुनिया के सभी देशों की किताबें पढ़ना चाहती हैं 13 साल की आयशा, बेहद दिलचस्प है इसके पीछे की कहानी

पाकिस्तान की 13 साल की आयशा आरिफ को शौक है कि वह दुनिया के तमाम देशों की किताबें पढ़ें। आठवीं कक्षा की छात्रा आयशा अब तक दुनिया के 197 देशों में से 82 देशों की किताबें पढ़ चुकी हैं। आयशा की कहानी बेहद दिलचस्प है।

दरअसल बचपन से किताबें पढ़ने की शौक़ीन आयशा को अपनी अम्मी की लाई हुई किताबें कभी पसंद नहीं आईं। पढ़ने का शौक तो था ही लेकिन उनका यह शौक़ पूरा नहीं हो पा रहा था। तब एक दिन आयशा के भाई ने उन्हें कुछ ऐसी किताबें लाकर दीं जिसने उनकी जिंदगी ही बदल दी।

आयशा के बताया, भाई ने मुझे लेमेनी सेनेकेट की चार पुस्तकों का सेट लाकर दिया, जिसका नाम था ‘सिरीज़ ऑफ़ इन्फोर्चनेट इवेंट्स, इसे पढ़कर मुझे अंदाज़ा हुआ कि मेरे मतलब की किताबें भी हैं। फिर किताबें पढ़ना एक आदत सी बन गई।

हालाँकि शुरू में केवल ब्रिटिश और अमेरिकी लेखकों की किताबें पढ़ीं तो ऐसा लगा कि कहीं कुछ छूट रहा है, तब ख्याल आया कि क्यों न दुनिया के हर देश से एक किताब पढ़ी जाए।

आयशा ब्रिटिश ब्लॉगर और लेखिका एन मॉर्गन से बहुत प्रभावित हुईं, जिन्होंने वर्ष 2012 में इसी तर्ज पर दुनिया भर से किताबें पढ़ने की मुहिम चलाई थी।

सोचने में जितना आसान था, करने में उतना ही कठिन। न तो पैसे और न इतने संसाधन। फिर आयशा ने सोशल मीडिया का सहारा लिया और अपने मिशन ‘रीडिंग ए बुक फ्रॉम एवरी कंट्री’ नाम से फेसबुक पर एक पेज बनाया। इसमें आयशा की अम्मी ने उनकी मदद की और जल्द ही यह पेज काफी पॉपुलर हो गया।

आयशा ने अपने फेसबुक पेज पर 197 देशों के नाम लिखकर उनके आगे खाली जगह छोड़ दी ताकि लोग उन देशों के बेहतरीन किताबों के नाम बताएं, जिसके बाद तो एक से एक सुझाव आने लगे।

लेखक और कलाकारों के अलावा विदेशी राजनीतिक नेताओं ने भी आयशा से संपर्क किया।

 

TOPPOPULARRECENT