Tuesday , December 19 2017

15 साल क़दीम गाड़ियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई बरक़रार

सुप्रीम कोर्ट में एक वकील की अर्ज़ी मुस्तर्द नई दिल्ली

सुप्रीम कोर्ट में एक वकील की अर्ज़ी मुस्तर्द

नई दिल्ली

सुप्रीम कोर्ट ने आज नेशनल ग्रीन ट्रब्यूनल के एक हुक्म के ख़िलाफ़ अर्ज़ी को मुस्तरद करदिया है जिस ने दिल्ली की सड़कों पर 15 साल से क़दीम गाड़ियों के चलाने पर पाबंदी आइद करदी है। चीफ जस्टिस एच एल दत्त और जस्टिस अरूण मिसरा पर मुश्तमिल बेंच ने कहा कि हमें उनकी ( एन जी टी ) की मुआवनत करनी चाहिए ना कि हौसलाशिकनी।

ग्रीन ट्रब्यूनल के फैसला को कुलअदम क़रार देने के लिये एक वकील की जानिब से पेश करदा अर्ज़ी को मुस्तरद करदिया गया । बेंच ने कहा कि नेशनल ग्रीन ट्रब्यूनल ( NGT ) ने साबिक़ में जारी करदा दस्तूरी अदालतों ( सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्टस ) के अहकामात का इआदा किया है।

अगर कोई इस तरह की गाड़ियां चलाते हुए नज़र आने पर मुताल्लिक़ा हुक्काम क़ानून के मुताबिक़ कार्रवाई बिशमोल गाड़ियों को ज़ब्त करलिया जाएगा । नेशनल ग्रीन ट्रब्यूनल ने 26 नवंबर 2014 के हुक्म में कहा था कि 15 साल से क़दीम गाड़ियों को अवामी मुक़ामात पर पार्किंग की इजाज़त नहीं रहेगी और पोलीस को इस तरह की गाड़ियों को उठाले जाने का इख़तियार रहेगा।

TOPPOPULARRECENT