Wednesday , December 13 2017

15 हजार घूस लेते थाना सदर संजय गिरफ्तार

शिवहर जिले के तरियानी थाना सदर संजय कुमार राय को निगरानी टीम ने पंद्रह हजार रुपये घूस लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ के लिए उन्हें मुजफ्फरपुर निगरानी दफ्तर लाया गया। थाना सदर को बुध को निगरानी अदालत में पेश किया जायेगा।

शिवहर जिले के तरियानी थाना सदर संजय कुमार राय को निगरानी टीम ने पंद्रह हजार रुपये घूस लेते रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ के लिए उन्हें मुजफ्फरपुर निगरानी दफ्तर लाया गया। थाना सदर को बुध को निगरानी अदालत में पेश किया जायेगा।

शिवहर जिले के तरियानी थाना इलाक़े के बासरपुर नरवारा गांव के राकेश साह ने 12 मार्च को पटना निगरानी में शिकायत दर्ज करायी थी। इसमें कहा था कि इंस्पेक्टर शरीक थाना सदर केस से नाम हटाने के लिए पचास हजार रुपये घूस मांग रहे हैं। जांच के बाद निगरानी टीम ने मामले को सही पाया। मंगल को डीएसपी महाराजा कनिष्क की कियादत में एक टीम की तशकील किया गया। इसमें इंस्पेक्टर अमरनाथ सिंह, अजीत कुमार, जयप्रकाश पाठक, एएसआइ इंद्रजीत सिंह, हवलदार मणिकांत व शशिकांत को शामिल किया गया।

सुबह करीब 11 बजे थाना सदर ने अपने चैंबर में राकेश से पंद्रह हजार रुपये लेकर जैसे ही अपनी जेब में रखा, उसे रंगेहाथ दबोच लिया गया। गिरफ्तारी के वक़्त थाना सदर ने निगरानी टीम से धक्का-मुक्की भी की, लेकिन उसे गिरफ्तार कर मुजफ्फरपुर ले आया गया।

राकेश ने बताया कि 25 जनवरी को गांव के राम अधीन राय के साथ मारपीट की वाकिया हुई थी। उनके अहले खाना को इलाज के लिए एसकेएमसीएच में भरती कराया गया। अहियापुर पुलिस ने उनलोगों का बयान लिया, जिसकी बुनियाद पर राम अधीन समेत उसके अहले खाना पर एफ़आईआर दर्ज की गयी। एफ़आईआर की जानकारी होने पर राम अधीन राय ने तरियानी थाना सदर शरीक इंस्पेक्टर संजय कुमार राय की मिलीभगत से उसके बारह अहले खाना पर गलत मुकदमा दर्ज करा दिया।

जिस दिन वाकिया की तारीख बतायी गयी, उस दिन मुल्ज़िम बनाये गये 12 लोगों में से पांच लोग दिल्ली में थे। उस दिन का वीडियो फुटेज भी पुलिस को दस्तयाब करा दिया गया। लेकिन थाना सदर बार-बार राम अधीन राय के हक से केस उठा लेने का दबाव बना रहे थे। उनकी बात ठुकराने के बाद उन्होंने पांचों का नाम हटाने के लिए पचास हजार रुपये की मांग की। उनलोगों ने 12 मार्च को पटना निगरानी में इसकी शिकायत दर्ज करायी गयी। 13 मार्च को तसदीक़ करने में काफी मशक्कत के बाद बीस हजार रुपये पर बात तय की गयी। उसी वक़्त पांच हजार रुपये एडवांस के तौर पर ले लिया। मंगल को पंद्रह हजार रुपये देने की बात तय हुई थी।

सकरा के सर्किल इंस्पेक्टर थे संजय

निगरानी के हत्थे चढ़े इंस्पेक्टर संजय कुमार राय 1989 बैच के दारोगा हैं। वे असल तौर से दरभंगा जिला के रहने वाले हैं। लोकसभा इंतिख़ाब के वक़्त उनका मुजफ्फरपुर से शिवहर तबादला किया गया था। मुजफ्फरपुर में लंबे वक़्त तक वे सकरा अंचल में सर्किल इंस्पेक्टर के ओहदे पर तैनात थे। इधर, शिवहर के एसपी शिव कुमार झा ने तरियानी थाना सदर संजय कुमार राय को मूअत्तिल कर दिया है।

TOPPOPULARRECENT