Thursday , July 19 2018

17 वर्षीय आस्ट्रेलियाई मुसलिम महिला बाक्सर ने हिजाब पहनकर जीती मुक्केबाजी प्रतियोगिता

सिडनी: आस्ट्रेलिया में एक मुस्लिम किशोरी मुक्केबाज़ ने हिजाब पहनकर मुक्केबाजी प्रतियोगिता में जीत हासिल की |

डेली मेल में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, पिछले साल राइन्ने अलामेद्दीन को उसके हिजाब और लेगिंग (घुटनों को कवर करती ड्रेस ) को उसके लिए असुरक्षित बताते हुए मुक्केबाजी प्रतियोगित से बैन कर दिया गया था |इस निर्णय ने 17 वर्षीय किशोरी की कई महीनों की ट्रेनिंग को बिल्कुल बर्बाद कर दिया था |

डेली मेल ऑस्ट्रेलिया से बात करते हुए ने राइन्ने बताया कि मैंने एक साल पहले बॉक्सिंग मैच के लिए साइन अप किया था और मैच से चार महीने पहले इसकी तैय्यारी शुरू की थी | हालाँकि मुझे सिर्फ़ दो हफ़्ते पहले एक लेटर मिला था जिसमें कहा गया था कि अगर मैंने हिजाब और लेगिंग पहनी तो मुझे खेलने कि अनुमति नहीं दी जाएगी| लेकिन इसके बावुजूद भी मैंने अपनी ट्रेनिंग जारी रखी | पिछले सप्ताह मुझे मैच के लिए अनुमति दे दी गयी | पिछले शनिवार वह एनएसडब्ल्यू में हिजाब पहनकर खेलने वाली पहली शौकिया बॉक्सर बन गयीं |

ये एक प्रदर्शनी मैच था इसलिए किसी को भी विजेता घोषित नहीं किया गया, लेकिन 600 लोगों ने इस मैच को देखा | मैच के बाद ने राइन्ने ने कहा कि जैसे कि कहा जा रहा था कि हिजाब पहनकर खेलना मेरे लिए खतरे की बात है | लेकिन मुझे बहुत ही ख़ुशी कि मेरे लिए हिजाब से कोई खतरा नहीं रहा |उन्होंने  इसे बैन करने वालों पर निशाना साधते हुए कहा कि सारी दुनिया में हिजाब पहनकर मैच खेलने की अनुमति दी जानी चाहिए |

राइन्ने का इस खेल की तरफ़ उनका आकर्षण टीवी पर यूएफसी फाइट देखने के बाद हुआ था | उन्होंने सिडनी के फ़ाइनल राउंड जिम में हसन अल-अशरफ़ी से इस खेल की ट्रेनिंग ली थी |

फ़िलहाल वह फाइनल राउंड जिम में एक पार्ट टाइम ट्रेनर के तौर पर काम करती हैं | उनका परिवार भी उनके इस शौक को पसंद करता है | अशरफ़ी ने बताया कि राइन्ने अपने खेल के लिए बहुत समर्पित हैं |

 

TOPPOPULARRECENT