Sunday , June 24 2018

192 पाकिस्तानी नागरिकों के वीज़ा पर भारत ने लगाया रोक!

नई दिल्ली। भारत ने हजरत निजामुद्दीन औलिया के उर्स से ठीक पहले 192 पाकिस्तानी नागरिकों के वीजा क्लियरेंस पर तात्कालिक रोक लगा दी है. पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने भारत के इस कदम पर निराशा जाहिर की है.

ये पाकिस्तानी नागरिक 1 जनवरी से 8 जनवरी के लिए नई दिल्ली में होने वाले हजरत निजामुद्दीन औलिया के उर्स में आना चाहते थे. भारत ने आखिरी मौके पर यह कदम उठाया है. कयास लगाए जा रहे हैं कि भारत ने कुलभूषण जाधव की उनके परिवार से हुई विवादित मुलाकात का इस तरीके से कूटनीतिक जवाब दिया है.

जाधव के परिवार से बदसलूकी के पीछे ISI की साजिश, लश्कर आतंकी ने की तारीफ

पाकिस्तानी जायरीन का यह दौरा भारत और पाकिस्तान के बीच 1974 में तय हुए समझौते के तहत होना था. इसके मुताबिक दोनों देशों के नागरिक दूसरे देश के धार्मिक स्थानों पर सालाना आयोजनों और नियमित रूप से भी जा सकते हैं.

भारत सरकार के इस फैसले से पाकिस्तानी जायरीन भारत में होने वाले उर्स में शामिल नहीं हो सकेंगे. भारत और पाकिस्तान दोनों देशों में इस मौके को काफी अहम माना जाता है.

पाकिस्तान ने भारत सरकार के फैसले को 1974 के प्रोटोकॉल का उल्लंघन बताया है. पाक सरकार ने कहा है कि यह फैसला दोनों देशों के लोगों के आपस में मिलने-जुलने की प्रक्रिया के लिए भी गतिरोध है.

मां को बिना मंगलसूत्र देखकर कुलभूषण जाधव को हुआ था शक, पूछा- बाबा ठीक हैं?

पाकिस्तान की ओर से कहा गया है कि दोनों देशों के बीच जारी जुबानी तल्खी के बावजूद पाकिस्तान ने दो दिन पहले ही 145 भारतीय मछुआरों को रिहा किया.

आपको बता दें कि पाकिस्तानी जेल में बंद भारतीय व्यवसायी कुलभूषण जाधव की उनकी मां और पत्नी से विवादित मुलाकात के बाद दोनों देश एक-दूसरे से जुबानी हमले कर रहे हैं.

पाकिस्तान का कहना है कि उसने मानवीय आधार पर जाधव के परिजनों को उनसे मिलने की इजाजत दी थी, लेकिन भारतीय अधिकारियों ने मुलाकात के तरीकों पर सवाल खड़े किए थे. इस मुलाकात में जाधव की मां से उनका मंगलसूत्र और गहने उतरवा दिए गए थे और उनके जूते भी खुलवा लिए गए थे.

TOPPOPULARRECENT