इन 2 अफ्रीकी मुस्लिम महिलाओं को नोबेल पुरस्कार के लिए किया गया नामांकित

इन 2 अफ्रीकी मुस्लिम महिलाओं को नोबेल पुरस्कार के लिए किया गया नामांकित

नोबेल शांति पुरस्कार के लिए इस वर्ष के नामांकन में अफ्रीका की दो युवा मुस्लिम महिलाओं को नामांकित किया गया है।

सोमालिया की 29 वर्षीय इलवाड एल्मन और लीबिया की 26 साल की हेज़र शैरीज़। दोनों संयुक्त राष्ट्र के पूर्व महासचिव कोफी अन्नान की एक साथ की गई पहल का हिस्सा हैं जो दुनिया भर से 10 युवा कार्यकर्ताओं को एक साथ लाये ।

इलवाड एल्मन मूल रूप से मोगादिशु सोमालिया की रहने वाली हैं,  जो मानवीय और शांति कार्यों के लिए जानी जाती हैं और कनाडा में रहती हैं। बता दें की एल्मन के पिता की हत्या 1990 के युद्ध और 2000 के दशक की शुरुआत के बाद युवा पुनर्वास और मानवीय शांति कार्यों में शामिल होने के लिए की गई थी।

2010 में 19 साल की उम्र में सोमालिया लौटकर  एलमन ने सोमालिया के भीतर मानवीय और महिला दोनों ही क्षेत्रों में अपने पिता के काम को जारी रखने के साथ-साथ अपने देश में शांति के लिए अपना अद्वितीय साहस और शक्ति लाने के लिए अथक प्रयास किया। सोमालिया में एल्मन के काम की कई उपलब्धियों में से एक सोमालिया का पहला बलात्कार संकट केंद्र है जो लिंग आधारित हिंसा और शोषण से बचे।

हेज़र शैरोज़ 2011 में लीबिया के गृहयुद्ध की भयावह घटनाओं के साक्षी बनने के बाद पहली बार मानवीय कार्यों और शांति की पहल में सक्रिय रूप से शामिल होने लगे। उस समय केवल 19 साल के थे, उसी साल शैरॉफ़ ने अपने संगठन की स्थापना की। देश की महिलाओं और युवाओं को सशक्त बनाने पर ध्यान केंद्रित करते हुए, शैरी ने लीबिया और पूरे उत्तरी अफ्रीका में कई लोगों के लिए एक प्रेरणा बनी हुई है।

2013 में 1325 नेटवर्क परियोजना की सह-शुरुआत, जो कि लीबिया के 30 शहरों के मानवाधिकार संगठनों और कार्यकर्ताओं का एक संग्रह है, शैरॉफ एक भविष्य के निर्माण में मदद कर रहा है जहां लीबिया मानव अधिकारों और महिला सशक्तीकरण के लिए एक साथ आ सकता है। वह वर्तमान में कानून की छात्रा है।

Top Stories