Monday , September 24 2018

200 यूनिटस बर्क़ी के इस्तेमाल पर क़दीम शरहें चीफ मिनिस्टर

हैदराबाद 05 अप्रैल: बर्क़ी शरहों में इज़ाफे के मसले पर अपोज़ीशन जमातों के मुसलसिल एहतिजाज और रियासत भर में अवामी ब्रहमी को देखते हुए चीफ मिनिस्टर किरण कुमार रेड्डी ने आज रात एलान किया कि रियासती हुकूमत घरेलू बर्क़ी सारफ़ीन पर इज़ाफ़ी शर

हैदराबाद 05 अप्रैल: बर्क़ी शरहों में इज़ाफे के मसले पर अपोज़ीशन जमातों के मुसलसिल एहतिजाज और रियासत भर में अवामी ब्रहमी को देखते हुए चीफ मिनिस्टर किरण कुमार रेड्डी ने आज रात एलान किया कि रियासती हुकूमत घरेलू बर्क़ी सारफ़ीन पर इज़ाफ़ी शरहों के बोझ को बचाने के लिए मज़ीद 830 करोड़ रुपये की सबसिडी जारी करेगी ।

चीफ मिनिस्टर को बर्क़ी शरहों में इज़ाफे के मसले पर अपोज़ीशन जमातों की सख़्त तन्क़ीदों का सामना था और ख़ुद बरसर-ए-इक्तदार कांग्रेस के भी बाअज़ गोशों ने इस ख़्याल का इज़हार किया था कि हुकूमत को इज़ाफ़ी बर्क़ी शरहों से दसतबरदारी इख़तियार करनी चाहीए ।

चीफ मिनिस्टर ने आज शाम सेक्रेटेरिएट में का बीनी सब कमेटी के अरकान के साथ बर्क़ी शरहों के मसले का जायज़ा लिया और ये एलान किया कि एक से 200 यूनिट तक बर्क़ी ख़र्च करने वाले सारफ़ीन पर इज़ाफ़ी शरहें लागू नहीं होंगी और उन्हें साबिक़ा शरहों से ही बर्क़ी बलज़ अदा करने होंगे ।

इस तरह उन्हों ने घरेलू इस्तेमाल की बर्क़ी की शरहों में इज़ाफे को ख़त्म करते हुए अवाम को राहत पहूँचाने की कोशिश की है । ए पी इलेक्ट्रीसिटी सेगूलेटरी कमीशन ने पिछ्ले हफ़्ते ही साल 2013 – 14 के लिए नज़रसानी शूदा बर्क़ी शरहों का एलान किया था और पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनें को इजाज़त दी थी कि वो 01 अप्रैल से बर्क़ी सारफ़ीन पर 6,173 करोड़ रुपये का इज़ाफ़ी बोझ आइद करें। ई आर सी की तरफ से बर्क़ी शरहों में इज़ाफे के फैसले के फ़ौरी बाद अपोज़ीशन जमातों की तरफ से एहतिजाज में शिद्दत पैदा होगई थी जो पहले ही बर्क़ी के बोहरान पर हुकूमत को तन्क़ीद का निशाना बनाए हुए थीं।

ख़ुद कांग्रेस के बाअज़ गोशों की तरफ से भी इस फैसले पर तन्क़ीद की जा रही थी । अब जबके रियासत में इंतिख़ाबात के लिए एक साल का वक़्त रह गया है राय दहनदों की नाराज़गी से बचने की कोशिश के तौर पर चीफ मिनिस्टर ने आज का बीनी सब कमेटी के मीटिंग में सूरत-ए-हाल पर ग़ौर करने के बाद एलान किया कि जो घरेलू सारफ़ीन माहाना 200 यूनिट तक बर्क़ी ख़र्च करते हैं उन के लिए शरहों में कोई इज़ाफ़ा नहीं होगा और उन्हें क़दीम शरहों से ही बलज़ अदा करने होंगे ।

इज़ाफ़ी शरहें हुकूमत सबसिडी की सूरत में अदा करेगी । चीफ मिनिस्टर ने रात में एक प्रेस मीटिंग से ख़िताब करते हुए कहा कि हुकूमत के इस फैसले से तक़रीबा 1.86 करोड़ घरेलू सारफ़ीन को फ़ायदा होगा और हुकूमत की तराफ से इस बोझ को बर्दाश्त करते हुए 830 करोड़ रुपये की सबसिडी जारी की जाएगी ।

उन्हों ने बताया कि ये सबसिडी पहले ही से दी जा रही 5,480 करोड़ रुपये की सबसिडी के अलावा होगी । ये सबसिडी ज़रई शोबा को मुफ़्त बर्क़ी सरबराही के लिए दी जा रही है । उन्हों ने कहा कि हुकूमत अपने वाअदा के मुताबिक़ ज़रई शोबे के लिए मुफ़्त बर्क़ी सरबराही का सिलसिला जारी रखेगी ।

उन्हों ने कहा कि हुकूमत इस बात की कोशिश करेगी कि जारीया साल बर्क़ी सारफ़ीन पर फ्यूल सर चार्च अडजसटमनट के नाम पर भी कोई बोझ आइद ना होने पाए । उन्हों ने कहा कि हालाँकि हुकूमत बैरूनी ज़राए से भारी कीमतों पर बर्क़ी खरीद रही है कीवनके रियासत में गैस और कोयला की क़िल्लत है और हाईडल बर्क़ी की पैदावार भी कम है ।

इस के बावजूद हुकूमत इस बात की कोशिश करेगी कि सारफ़ीन पर फ्यूल सर चार्च अडजसटमनट आइद ना होने पाए । बर्क़ी मसले पर अपोज़ीशन के इल्ज़ामात का हवाला देते हुए चीफ मिनिस्टर ने कहा कि अगर हुकूमत के फैसले के बावजूद भी कोई एहतिजाज जारी रखता है तो ये लोग अवाम के नुमाइंदे नहीं हैं बल्के सरमाया दारों के नुमाइंदे कहलाएंगे कीवनके अवाम पर बोझ को कम करने की हुकूमत ने कोशिश की है । बर्क़ी शरहों में इज़ाफ़ा और बर्क़ी क़िल्लत के ख़िलाफ़ एहतिजाज करते हुए अपोज़ीशन जमातों ने रियासत में एहतिजाज मुनज़्ज़म किया था ।

सब से पहले कमीयूनिसट जमातों के क़ाइदीन ने भूक हड़ताल की थी । इस के बाद तेलुगू देशम अरकान असेम्बली-ओ‍कौंसिल ने भूक हड़ताल की । बी जे पी ने भी एहतिजाज किया और अब वाई एस आर कांग्रेस की तरफ से भी भूक हड़ताल की जा रही है । हुकूमत घरेलू सारफ़ीन पर बोझ आइद ना करने का फैसला करके अमला अपोज़ीशन के दबाव‌ के आगे झुक गई है ।

TOPPOPULARRECENT