Monday , January 22 2018

2011 में हिंदूस्तान की सब से ज़्यादा ग़ैरमुल्की रकमी वसूली

वाशिंगटन । 2 दिसमबर । ( पी टी आई ) तरक़्क़ी पज़ीर ममालिक 2011 में तवक़्क़ो है कि मजमूई तौर पर 351 बिलीयन डॉलर्स ग़ैरमुल्की रक़ूमात हासिल करेंगे । इस मुआमले में हिंदूस्तान 58 बिलीयन डॉलर्स के साथ सर-ए-फ़हरिस्त है जबकि चीन को 57 बिलीयन डॉलर्

वाशिंगटन । 2 दिसमबर । ( पी टी आई ) तरक़्क़ी पज़ीर ममालिक 2011 में तवक़्क़ो है कि मजमूई तौर पर 351 बिलीयन डॉलर्स ग़ैरमुल्की रक़ूमात हासिल करेंगे । इस मुआमले में हिंदूस्तान 58 बिलीयन डॉलर्स के साथ सर-ए-फ़हरिस्त है जबकि चीन को 57 बिलीयन डॉलर्स की रक़म हासिल होगी । आलमी बैंक ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा कि आलमी सतह पर रकमी अदायगी जारीया मालीयाती साल 406 बिलीयन डॉलर्स तक पहूंच जाएगी।

रक़ूमात हासिल करने वाले दीगर ममालिक में पाकिस्तान , बंगला देश , नाईजीरिया , वैतनाम , मिस्र और लबनान शामिल हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि मआशी सुस्त रवी की वजह से रोज़गार के मवाक़े कम हुए हैं लेकिन आलमी सतह पर रकमी अदायगी में मुसलसल इज़ाफ़ा होरहा है और तवक़्क़ो हीका 2014 तक ये 515 बिलीयन डॉलर्स तक पहूंच जाएगी ।

TOPPOPULARRECENT