Wednesday , September 19 2018

2014 इंतिख़ाबात ( चुनाव) के लिए नई सयासी पार्टी की इम्कानी तशकील : अन्ना हज़ारे

समाजी कारकुन अन्ना हज़ारे ने आज वाज़िह ( स्पष्ट) इशारा दिया कि 2014 के लोक सभा इंतिख़ाबात ( चुनाव) के लिए सयासी उफ़ुक़ ( क्षितिज) पर नई सयासी पार्टी पीपलज़ पार्टी भी नमूदार हो सकती है। उन्होंने कहा कि आवाम के पसंदीदा क़ाइदीन ( लीडर) अगर इंतिख

समाजी कारकुन अन्ना हज़ारे ने आज वाज़िह ( स्पष्ट) इशारा दिया कि 2014 के लोक सभा इंतिख़ाबात ( चुनाव) के लिए सयासी उफ़ुक़ ( क्षितिज) पर नई सयासी पार्टी पीपलज़ पार्टी भी नमूदार हो सकती है। उन्होंने कहा कि आवाम के पसंदीदा क़ाइदीन ( लीडर) अगर इंतिख़ाबात ( चुनाव) लड़ें तो बेहतर होगा , इस में कोई ग़लत बात नहीं है।

अन्ना हज़ारे ने कहा कि वो मुल्क गीर पैमाने पर अपना दौरा करेंगे और आवाम से कहेंगे कि वो जन जन क़ाइदीन ( लीडर) को इंतिख़ाबी ( चुनावी) मैदान में उतारना चाहते हैं उन की निशानदेही कर दें। इस के बाद में इन उम्मीदवारों के लिए इंतिख़ाबी मुहिम चलाऊंगा। इस सिलसिला में इंटरनैट से भी काम लिया जाएगा जहां उम्मीदवारों के नाम दिए जाएंगे और उन से ख़ाहिश की जाएगी कि वो अपने पसंद के उम्मीदवार को तर्जीह दें।

जिन उम्मीदवारों या क़ाइदीन ( नेताओं) को इंतिख़ाबात ( चुनाव) लड़ने के लिए तैयार किया जाएगा उन्हें ये इख़तियार होगा कि वो आज़ाद उम्मीदवार या किसी पार्टी से वाबस्तगी इख़तियार करते हुए इंतिख़ाबात लड़ें। एक टी वी चैनल से बात करते हुए उन्होंने कहा कि अगर 2014 तक सयासी मंज़र नामा पर कोई नई सयासी पार्टी चमकती दमकती नज़र आए तो इस में हैरत की भी कोई बात नहीं है और ना ही ये कोई ग़लत बात है।

अन्ना हज़ारे की भूक हड़ताल में अवाम का अज़दहाम नज़र नहीं आ रहा है जहां ये बातें भी कही जा रही हैं कि अन्ना की तहरीक दम तोड़ रही है जिस की अन्ना हज़ारे ने तरदीद की और कहा कि वक़्त गुज़रने के साथ इस में मज़ीद ( अन्य) लोग शामिल होंगे। उन्होंने कहाकि मुल्क के रोशन मुस्तक़बिल ( भविष्य) की ना तो कांग्रेस ग्यारंटी दे सकती है और ना बी जे पी।

जब तक मस्नद इक़तिदार( प्रतिष्ठित शासन) पर अच्छे, नेक, दयानतदार और सयासी सूझ बूझ रखने वाले लोग ना होंगे उस वक़्त तक कोई तबदीली मुम्किन नहीं। ये पूछे जाने पर कि क्या अरविंद केजरीवाल और बाबा राम देव उनहीं मुख़्तलिफ़ समतों में नहीं ले जा रहे? जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि में हमेशा ऐसे अफ़राद की ताईद करता रहूँगा जो बदउनवानीयों(भ्रष्टाचारी) के ख़िलाफ़ हैं लेकिन जिस वक़्त लोगों के मक़ासिद शख़्सी नौईयत के हो जाएंगे वो अपनी तहरीक से दस्तबरदार हो जाएंगे।

ये पब्लिक है ये सब जानती है कि कुन पार्टीयों ने लोक पाल की मुख़ालिफ़त (विरोध) की थी।

TOPPOPULARRECENT