Tuesday , December 12 2017

22 साल से मतलूब मुल्ज़िम नज़ीर गिरफ़्तार

रियासत की काउंटर इंटेलिजेंस सेल ने 22 साल से मतलूब फ़सीह गैंग मोडीयूल से ताल्लुक़ रखने वाले एक रुकन को बन्डुलागुड़ा इलाके से गिरफ़्तार करलिया। बावसूक़ ज़राए ने बताया कि 40 साला नज़ीर साकन बन्डुलागुड़ा जो साल 1993 में बाबरी मस्जिद की शहादत

रियासत की काउंटर इंटेलिजेंस सेल ने 22 साल से मतलूब फ़सीह गैंग मोडीयूल से ताल्लुक़ रखने वाले एक रुकन को बन्डुलागुड़ा इलाके से गिरफ़्तार करलिया। बावसूक़ ज़राए ने बताया कि 40 साला नज़ीर साकन बन्डुलागुड़ा जो साल 1993 में बाबरी मस्जिद की शहादत में हिस्सा लेने वाले कारसेवकों के मुबय्यना क़त्ल केस और मुजरिमाना साज़िश के एक दो मुक़द्दमात में शामिल है।

ज़राए ने बताया कि नज़ीर ने बाबरी मस्जिद की शहादत के बाद फ़सीह गैंग में शमूलीयत इख़तियार की और बादअज़ां शहर में नंद राज गौड़ और पापिया गौड़ जो कार सेवा में हिस्सा लिया था निशाना बनाते हुए इन का क़त्ल कर दिया था।

इस सिलसिले में नज़ीर के ख़िलाफ़ क्राईम नंबर 118 और 172/1993 क़त्ल जबरा वसूली और मुजरिमाना साज़िश के दफ़आत के तहत मुक़द्दमात दर्ज किए गए थे। इस केस के अहम मुल्ज़िम फ़सीह और इस के दो साथीयों रफ़ीक़ और महमूद को सिकंदराबाद के कारख़ाना इलाके में साल 1993 में एनकाउंटर में हलाक कर दिया था।

वाज़िह रहे के फ़सीह का ताल्लुक़ ज़िला नलगेंडा से था और इस ने बाबरी मस्जिद की शहादत में हिस्सा लेने वाले आंध्र प्रदेश के कारसेवकों को निशाना बनाने के लिए एक टोली तशकील दी थी जिस में मुहम्मद असग़र अली मिर्ज़ा फ़य्याज़ बैग नज़ीर और दुसरे मुस्लिम नौजवानों ने शमूलीयत इख़तियार की थी।

22 साल के तवील अर्सा से मफ़रूर नज़ीर का पता लगाने के लिए रियासती पुलिस ने कई मर्तबा इस के मुबय्यना खु़फ़ीया ठिकानों पर धावा किया था लेकिन कामयाबी हाथ ना लग सकी। बावसूक़ ज़राए ने बताया कि नज़ीर को अंदरून दो यौम मुताल्लिक़ा अदालत में पेश किया जाएगा।

TOPPOPULARRECENT