2G मुक़द्दमे का एक साल मुकम्मल

2G मुक़द्दमे का एक साल मुकम्मल
2G स्पक्टरम मुख़तस करने के मुक़द्दमे की समाअत का एक साल मुकम्मल होगया है। इस मुक़द्दमे में आला सतही शख़्सियात जैसे साबिक़ मर्कज़ी वज़ीर-ए-मवासलात ए राजा और डी ऐम के रुकन पार्लीमैंट कन्नी मोज़ही को मुल्ज़िम क़रार दिया गया है। इस अस्क़ाम की

2G स्पक्टरम मुख़तस करने के मुक़द्दमे की समाअत का एक साल मुकम्मल होगया है। इस मुक़द्दमे में आला सतही शख़्सियात जैसे साबिक़ मर्कज़ी वज़ीर-ए-मवासलात ए राजा और डी ऐम के रुकन पार्लीमैंट कन्नी मोज़ही को मुल्ज़िम क़रार दिया गया है। इस अस्क़ाम की वजह से सरकारी ख़ज़ाने को ज़बरदस्त नुक़्सान पहुंचा था।

मुक़द्दमे के सिलसिले में 100 से ज़्यादा गवाहों पर वुकला अपनी जरह भी मुकम्मल करचुके हैं, जिसकी तफ़सीलात 3000 से ज़्यादा सफ़हात पर दर्ज की गई हैं। रोज़ाना मुक़द्दमे का शुरुआत पिछ्ले साल 11 नवंबर को शुरू हुआ था जबकि ख़ुसूसी सी बी आई जज ओ पी सावनी ने 17 मुल्ज़िमीन पर फ़र्द-ए-जुर्म आइद किया था।

इनमें 3 मुवासलाती कंपनीयां भी शामिल थीं, जिन्हें पहले 2 फ़र्द-ए-जुर्म में कहा गया था कि काफ़ी शहादत उन के ख़िलाफ़ बादियुन्नज़र में मौजूद है। पिछ्ले एक साल के दौरान मर्कज़ी वज़ीर-ए-मवासलात ए राजा और दीगर 16 पर जरह भी की जा चुकी है। अदालत पहले ही ईसार ग्रुप और यू टेलीकॉम प्रोमोटरस पर मुक़द्दमा दायर करचुका है। उन्हें भी 2G अस्क़ाम मुक़द्दमे में मुल्ज़िम क़रार दिया गया है।

Top Stories