Sunday , December 17 2017

3 साल में 2800 बच्चों का अग़वा

हुकूमत ने आज कहा कि 2008-10 के दौरान मुल्क में ज़ाइद अज़ 28000 बच्चों का अग़वा किया गया और तकरीबन 1.84 लाख बच्चे लापता बताए गए हैं ।

हुकूमत ने आज कहा कि 2008-10 के दौरान मुल्क में ज़ाइद अज़ 28000 बच्चों का अग़वा किया गया और तकरीबन 1.84 लाख बच्चे लापता बताए गए हैं ।

नेशनल क्राईम रेकॉर्ड्स बयो रियो की जानिब से फ़राहम करदा इत्तिलाआत के मुताबिक़ 2008 में जुमला 7,862 बच्चे अग़वा करलिए गए जबकि 2009 में 9,436 और 2010 में 11,297 बच्चे अग़वा हुए ।

मरकजी मुमलिकती वज़ीर दाख़िला जितेन्द्र सिंह ने राज्य सभा को एक तहरीरी जवाब में ये बात बताई । उन्हों ने कहाकि अग़वा होने वाले बच्चों की तादाद 28,595 होती है।

इस मुद्दत के दौरान 1,84,605 बच्चे लापता हुए हैं । वज़ारत-ए-दाख़िला ने 31 जनवरी 2012 को लापता बच्चों के ताल्लुक़ से एक अडवाएज़री जारी किया था और रियासतों को हिदायत दी गई थी कि वो बच्चों की गैरकानूनी मुंतक़ली को रोकने इक़दामात करें ।

हुकूमत ने बच्चों का रेकॉर्ड रखने केलिए डी एन ए प्रो फलीइंग , एन जी औज़ को शामिल करने और दीगर तनज़ीमों के साथ काम करते हुए अग़वा को रोकने अवाम में बेदारी प्रोग्राम चलाया जाय।

TOPPOPULARRECENT