Thursday , September 20 2018

44 दिन में 26 जवान हुए शहीद, लेकिन पाकिस्तान को सिर्फ कार्रवाई की चेतावनी

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर में तीन दिन में तीन हमले हुए. पांच फरवरी के बाद 14 जवान शहीद हो गए. इस साल 44 दिन में 26 जवान शहीद हो गए हैं, लेकिन सरकार अभी भी पाकिस्तान को सिर्फ कार्रवाई की चेतावनी दे रही है.

कल रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण नेमसुंजवां हमले के लिए पाकिस्तान को जिम्मेदार ठहराया है. उन्होंने कहा कि हमले में पाकिस्तान का हाथ है. सीतारमण ने कहा, ‘’पाकिस्तान को इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी. ”पाकिस्तान अब आतंकवाद को पीर पंजाल रेंज के आगे फैला रहा है और भारत में आतंकवादियों की घुसपैठ कराने के लिए लगातार सीजफायर का उल्लंघन कर रहा है. भारत का काउंटर-टेररेज़म प्लान पहले ही अमल में लाया जा चुका है.”

इसके जवाब में पाकिस्तान के रक्षा मंत्री खुर्रम दस्तगीर खान ने कहा, “भारत का आक्रामक रवैया,  रणनीतिक गलती या कोई भी गलत कदम बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. भारत को उसकी हर कार्रवाई का उसी के शब्दों में जवाब दिया जाएगा.”

 

 इससे पहले पाकिस्तान ने भारत को सर्जिकल स्ट्राइक जैसा कोई कदम नहीं उठाने की नसीहत दी थी. बता दें कि पुलिस के मुताबिक सुंजवान हमले को पाकिस्तान के आंतकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने अंजाम दिया है. हालांकि पाकिस्तान ने इस आतंकी हमले की जिम्मेदारी लेने से इनकार किया है और कहा है कि भारत को पूरी जांच किये बिना पाकिस्तान पर आरोप नहीं लगाना चाहिए.

जम्मू के पास सुंजवान स्थित आर्मी कैम्प में शनिवार को हुआ आतंकी हमला हाल के समय में हुआ सबसे बड़ा आतंकी हमला है. इस हमले में पांच जवानों, महिलाओं और बच्चों समेत दस लोग घायल हुए हैं.

TOPPOPULARRECENT