50 साल तक क्रिस्चियन बने रहकर मैंने जो गंवाया है मुस्लिम बनकर वो हासिल कर रही हूँ

50 साल तक क्रिस्चियन बने रहकर मैंने जो गंवाया है मुस्लिम बनकर वो हासिल कर रही हूँ

इस्लाम में लोगों को जोड़ने और भाईचारा बढ़ाने का जो सन्देश अल्लाह ने दिया है वो इस मजहब की एक ऐसी कुंजी है जो किसी और धर्म में शायद ही हो। इसके इलावा ज़िन्दगी और उस परवरदिगार तक पहुँचने का जो रास्ता कुरान में बताया गया है उस रास्ते पर चलने जो तसल्ली दिलो दिमाग को मिलती है वो मुझे एक क्रिस्चियन के रूप में 50 साल तक नहीं मिली। सीधे लफ़्ज़ों में कहूं तो ज़िन्दगी के 50 सालों में क्रिस्चियन बने रहकर मैंने जो खोया है इस्लाम कबूल कर वो मैं वापिस पा रही हूँ।

यह कहना है हाल ही में क्रिस्चियन बनी 60 साल की एक बेल्जियन महिला का जिसने हाल ही में रमज़ान के पाक महीने में इस्लाम का राह अपनाया है। बेल्जियम में रहने वाली इस महिला ने अपना नाम न बताये हुए सऊदी प्रेस एजेंसी से बात की है और सऊदी अरब आकर ही इस्लाम क़ुबूल किया है।

 

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

Top Stories