Tuesday , November 21 2017
Home / Khaas Khabar / 500 का नोट लेने से डॉक्टर ने किया इंकार, नवजात ने तोड़ा दम

500 का नोट लेने से डॉक्टर ने किया इंकार, नवजात ने तोड़ा दम

मुंबई के गोवंडी में डॉक्टर द्वारा पांच सौ का नोट नहीं स्वीकार करने के चलते एक नवजात बच्चे की मौत का मामला सामने आया है। ये मामला जीवन ज्योत हॉस्पिटल एंड नर्सिंग होम का है जहां मां और उसके बच्चे को इलाज के लिए लाया गया था। मगर माता-पिता के पास सिर्फ 500 रुपए के नोट थे, जिसे लेने डॉक्टर ने इंकार कर दिया। उसके बाद सही समय पर बच्चे को इलाज न मिलने कारण उसकी मौत हो गई।

बच्चे के पिता जगदीश शर्मा कारपेंटर का काम करते हैं। जगदीश अपनी पत्नी किरण और बच्चे की हालत खराब होने की वजह से नर्सिंग होम लाए थे। नौजात और किरण का इलाज अस्पताल में 18 अपैल से चल रहा था। नर्सिंग होम की डॉक्टर डॉ. शीतम कामथ ने 8 नवंबर को किरण का एक टेस्ट किया था और बताया कि बच्चे की डिलीवरी 7 दिसंबर के आसपास होगी।

9 नवंबर को किरण को अचानक लेबर पेन शुरू हो गया और रिश्तेदार और पड़ोसियों की मदद से उन्होंने बच्चे को जन्म दिया। उसके बाद मां और बच्चे की हालत खराब होने की वजह से दोनों को नर्सिंग होम लाया गया। जगदीश को कुल 6000 रुपए जमा कराने कराने थे मगर उनके पास सिर्फ 500-500 के नोट थे। उन्होंने बैंक और एटीएम के काफी चक्कर लगाए पर वे सभी बंद थे जिसके चलते नोट 100 के नोट में नहीं बदले जा सके। उन्होंने बार-बार गुहार लगाई मगर डॉक्टरों ने इलाज करने से साफ मना कर दिया। उन्होंने किरण और बच्चे को वापस भेज दिया। उसके एक बाद बच्चे ने दम तोड़ दिया।

परिवार के तरफ शुक्रवार को अस्पताल के खिलाफ शिवाजी नगर पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराया है। महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. दीपक सावंत ने इस मामले में कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है और कहा है कि अगर उन्हें शिकायत मिलती है तो इसे मामले को महाराष्ट्र मेडिकल काउंसिल को भेजा जाएगा और जरूरी कार्रवाई की जाएगी।

गौरतलब है कि मंगलवार की शाम को सरकार 500 और हजार के नोट को बंद करने का ऐलान किया था और कहा था कि सरकार अस्पतालों में ये नोट फिलहाल कुछ दिनों तक चलते रहेंगे। लेकिन हजार के नोटों को लेने से इंकार किया जा रहा है। कई अस्पतालों को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया गया है।

TOPPOPULARRECENT