Monday , June 25 2018

6-इंच का मानव कंकाल जो पहले एलियन माना गया था, वैज्ञानिकों ने फिर से रिसर्च चालू किया

एक 6 इंच के कंकाल की उत्पत्ति जो एक बार एक एलियन की अवशेष माना जाता था, वैज्ञानिकों ने इसे फिर से रिसर्च के लिए खोल दिया है। हड्डियों के एक नया डीएनए अध्ययन से पता चलता है कि अवशेष वास्तव में मानव हैं और एक छह वर्षीय लड़की का था जो बौनी थी। ‘एटा’ नामक उपनाम की बौनी लड़की जो 2003 में चिली में अटाकामा में किए गए अविश्वसनीय खोज में पाया गया था। इसके सिर्फ दस पसलियां ही हैं। चर्च में छोड़ दिया गया लाश एक चमड़े की थैली में मिला था जिसे कंकाल को ‘एटा’ नाम से जाना जाता था

कंकाल स्पेन में एक कलेक्टर ने खोजा था जो अनुमान लगाता था कि यह एक यह एलियन के जीवन का प्रमाण था। पांच साल के गहरे जीनोमिक विश्लेषण के बाद वैज्ञानिकों ने विचित्र नमूने के लिए जिम्मेदार उत्परिवर्तनों को चिह्नित किया है। कैलिफोर्निया, सैन फ्रांसिस्को और स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के आनुवंशिक परीक्षणों से पता चला है कि हड्डियां 40 साल पहले की मृत्यु के एक मानव लकड़ी की थीं।

शोधकर्ताओं ने पाया कि हड्डियों के विकास के लिए जाने जाने वाले कई जीन, जिनमें से कुछ को पहले कभी नहीं जाना गया था। डीएनए विश्लेषण से पता चलता है कि उसकी उपस्थिति को आनुवंशिक उत्परिवर्तनों की एक श्रृंखला से समझाया जा सकता है जो बौनेवाद और अन्य हड्डियों और विकास संबंधी विकार से जुड़ा हुआ है।

प्रतीत होता है कि वह लड़की छह से आठ साल की उम्र के बीच हुई होगी जब वह मर गई थी। यूसीएसएफ के एक शोधकर्ता संचीता भट्टाचार्य ने कहा कि उन्हें ‘एटा के डीएनए में 64 जीन पाया गया जो हानिकारक होने की संभावना थी। उसने पाया कि, अविश्वसनीय रूप से, 10 विविधताओं को ‘लघु कद’ और ‘पसलियों के 11 जोड़े’ सहित कंकाल समस्याओं से जोड़ा गया था। शोधकर्ताओं ने अनुमान लगाया है कि कंकाल की विकृतियों में नाइट्रेट के जोखिम के कारण डीएनए की क्षति हो सकती है। चिली में एक नाइट्रेट खदान के पास अवशेष पाए गए थे। आनुवांशिक विश्लेषण के बाद भी लड़की की शंकु के आकार की खोपड़ी एक रहस्य बनी हुई है। यह स्थिति बिगड़ा हुआ मानसिक क्षमता से जुड़ी है और जिसके वजह से न्यूरोलॉजिकल फ़ंक्शन कम कर दी है।

TOPPOPULARRECENT