Monday , September 24 2018

6 माहीने मे वक़्फ़ बोर्ड की आमदनी में 6 करोड़ रुपये का इज़ाफ़ा

कमिशनर अक़लीयती बहबूद जनाब शेख़ मुहम्मद इक़बाल (आई पी एस ) ने स्पेशल ऑफीसर वक़्फ़ बोर्ड के ओहदा पर आई एफ़ एस ओहदेदार जनाब जलाल उद्दीन अकबर के तक़र्रुर का ख़ैर मक़दम किया।

कमिशनर अक़लीयती बहबूद जनाब शेख़ मुहम्मद इक़बाल (आई पी एस ) ने स्पेशल ऑफीसर वक़्फ़ बोर्ड के ओहदा पर आई एफ़ एस ओहदेदार जनाब जलाल उद्दीन अकबर के तक़र्रुर का ख़ैर मक़दम किया।

उन्हों ने कहा कि औक़ाफ़ी जायदादों के तहफ़्फ़ुज़ और तरक़्क़ी के सिलसिले में नए स्पेशल ऑफीसर को उन का मुकम्मल तआवुन हासिल रहेगा। आज एक प्रैस कान्फ़्रैंस से ख़िताब करते हुए जनाब शेख़ मुहम्मद इक़बाल ने स्पेशल ऑफीसर वक़्फ़ बोर्ड की हैसियत से गुज़शता छः माह के दौरान अंजाम दिए गए कामों की तफ़सीलात ब्यान की। उन्हों ने कहा कि औक़ाफ़ी जायदादों के तहफ़्फ़ुज़ और उन की तरक़्क़ी के लिए उन की जानिब से किए गए इक़दामात के मुसबत नताइज बरामद हुए हैं।

ना सिर्फ़ कई क़ीमती औक़ाफ़ी जायदादों का तहफ़्फ़ुज़ किया गया बल्कि वक़्फ़ बोर्ड की आमदनी में भी इज़ाफ़ा हुआ। उन्हों ने कहा कि गुज़शता छः माह के दौरान वक़्फ़ बोर्ड की आमदनी में 6 करोड़ रुपये का इज़ाफ़ा हुआ है और तवक़्क़ो की जा रही है कि नए स्पेशल ऑफीसर के जायज़ा हासिल करने के बाद ये इज़ाफ़ा 15 ता 20 करोड़ रुपये हो जाएगा।

उन्हों ने वज़ाहत की कि स्पेशल ऑफीसर की हैसियत से उन्हों ने किसी भी मुतवल्ली या इदारा के ख़िलाफ़ शख़्सी इनाद या इलाक़ाई और सियासी वाबस्तगी बुनियाद पर कार्रवाई नहीं की।

उन्हों ने सिर्फ़ और सिर्फ़ रज़ाए इलाही और अल्लाह के हुज़ूर जवाबदेही के तसव्वुर के साथ वक़्फ़ ऐक्ट के तहत कार्रवाई की है यही वजह है कि आम मुसलमानों ने उन के इक़दामात की भरपूर ताईद की जबकि बाअज़ लोग उन के ख़िलाफ़ हो गए। उन्हों ने कहा कि वक़्फ़ क़्वाइद के तहत मुतवल्ली अवामी ख़िदमत गुज़ार होता है और वो वक़्फ़ बोर्ड को जवाबदेह है।

कमिशनर अक़लीयती बहबूद ने कहा कि छः माह के दौरान जिन मुतवल्लियों और इदारों के ख़िलाफ़ उन्हों ने कार्रवाई की थी इन में से किसी एक मुआमला में भी अदालत ने हुक्म इल्तवा जारी नहीं किया और तहक़ीक़ात पर रोक नहीं लगाई, सिर्फ़ बाअज़ मुआमलात में गिरफ़्तारी के लिए मोहलत दी गई।

TOPPOPULARRECENT