Wednesday , January 17 2018

600 क्यूसेक पानी पुणे की तहसीलों को जारी विभिन्न क्षेत्रों की हिस्सेदारी पर विवाद

पुणे: एमएनएस के सख्त विरोध के बीच राज्य सिंचाई विभाग ने 600 क्यूसेक पानी शहर के खड़क वासलह जलाशय से पड़ोसी पड़ोसी उम्दा पूर और डौंड तहसीलों को जारी कर दिया। ये दोनों जिले पानी की गंभीर कमी का शिकार हैं क्योंकि महाराष्ट्र में सूखे की स्थिति पाई जाती है।

एक टीएमसी पानी में से 600 क्यूसेक पानी पहले चरण में जारी कर दिया गया है और शेष पानी चरणबद्ध में उम्दा पूर और डौंड तहसीलों के लिए जारी किया जाएगा। ए ए कपोल सुप्रिटेंडिंग इंजीनियर सिंचाई सर्किल ने कहा कि स्थानीय प्रशासन और सिंचाई विभाग पूरी व्यवस्था कर चुके हैं ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि पानी अपनी निर्धारित स्थलों पर पहुंच जाए। उन्होंने कहा कि स्थानीय प्रशासन और सिंचाई विभाग पहले ही सारी व्यवस्था पूरी कर चुका है ताकि यह सुनिश्चित किया जाए कि पानी अपनी स्थलों तक पहुंच जाए।

फ्लाइंग दस्ते, तकनीकी स्टाफ, पुलिस विभाग वित्त अधिकारी गहरी निगरानी करेंगे ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि पानी अवैध रूप से रास्ते में नहरों में न छोड़ा जाए। किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए पुलिस बल खड़क वासला जल अशय के पास तैनात किया गया है।

कल एमएनसी कार्यकर्ताओं ने प्रदेश सिंचाई विभाग के कार्यालय में तोड़फोड़ की थी और शहर के जल भंडारों से पानी की भागीदारी के बारे में विरोध किया था जिसकी वजह से पुलिस को जिला कार्यालय के समक्ष अपना प्रबंधन सख्त करना पड़ा था। जिला मंत्री गिरीश बापट शहर के क्षेत्र कस्बे में मौजूद हैं।

उन्होंने कहा कि अधिकारियों और 10 कर्मचारियों पुलिस कार्यालय के बाहर तैनात किया गया है। सीनीयर इन्सपेक्टर विश्राम बाग़ पुलिस स्टेशन हेमंत भट्ट ने कहा कि पानी खड़क वासलह जल अशय से उम्दा पुर और डौंड तहसीलों को जारी करने का मामला एमएनसी कार्यकर्ताओं के हिंसक विरोध की वजह से गर्म हो गया है जबकि विभीन्न पार्टियों के कार्पोरेटरस ने इस फैसले का विरोध करते हुए कहा कि इससे पुणे शहर में पानी की कमी की समस्या अधिक गंभीर हो जाएगी।

TOPPOPULARRECENT