Thursday , June 21 2018

839 नये खानगी रेडियो स्टेशन क़ायम होंगे

कार और मोबाइल रेडीयो सामईन की बढ़ती हुई तादाद को देखते हुए हुकूमत ने 839 नए खानगी रेडियो स्टेशन क़ायम करने का फ़ैसलालिया है।

कार और मोबाइल रेडीयो सामईन की बढ़ती हुई तादाद को देखते हुए हुकूमत ने 839 नए खानगी रेडियो स्टेशन क़ायम करने का फ़ैसलालिया है।

आल इंडिया रेडियो के डायरेक्टर जनरल आर. वेकटेश्वर्लू ने यहां मुनाक़िद प्रेस कान्फ़्रेंस से ख़िताब करते हुए कहा कि आल इंडिया रेडियो मुल्क के समाजी और इक़तिसादी शोबे में अहम रोल अदा कर रहा है। उन्होंने कहा कि मोबाइल और कारों में रेडीयो सुनने वालों की तादाद को देख लगता है कि रेडियो का सुनहरी दौर फिर आएगा। उसी बात को ज़हन में रख कर एफ़ एम रेडियो तौसीअ के तीसरे मरहले में हुकूमत ने 839 नए खानगी रेडियो स्टेशन शुरू करने की मंसूबा है। इस के लिए टेंडर मदऊ कर नीलामी की जाएगी। इस से रेडियो ख़ानदान बढ़ेगा।

आल इंडिया रेडियो के डायरेक्टर जनरल ने कहा कि उस वक़्त ऑल इंडिया रेडियो के 407 स्टेशन हैं, जबकि खानगी स्टेशनों की तादाद 240 है। नए रेडीयो स्टेशन ज़ाती कंपनियों को सौंपने की पालिसी बनाई गई है। उन्होंने कहा कि मौजूदा में एफ़ एम गोल्ड और उर्दू सर्विस इंटरनेट पर दस्तयाब है।

एक सवाल के जवाब में डायरेक्टर जनरल ने कहा कि आल इंडिया रेडियो ने गुज़िश्ता साल 376 करोड़ रुपये की आमदनी हासिल की थी और जारी साल में अब तक 307 करोड़ रुपये की आमदनी हासिल हुई है, जिसके 440 करोड़ रुपये तक पहुंचने का इमकान है। हुकूमत प्रसार भारती, दूरदर्शन और आल इंडिया रेडियो को 3,500 करोड़ रुपये बजट मुख़तस करती है, जिसमें से 800 करोड़ रुपये आल इंडिया रेडियो को मिलते हैं।

वेकटेश्वर्लू ने कहा कि आल इंडिया रेडियो अपने नए प्रोग्रामों में साहित्य अकेडमी और जनानपीठ इनामयाफ्ता अदीबों के नाविलों के सीरियल नश्र करेगा।

TOPPOPULARRECENT