Monday , November 20 2017
Home / test /

जाने-माने प्रोपेगेंडिस्ट और इस्लाम और मुसलमानों के खिलाफ नफरत फैलाने वाले तारिक फतेह ने इस बार गृह मंत्री राजनाथ सिंह और प्रधानमंत्री को नरेंद्र मोदी को भी नहीं बख्शा। ईटीवी में दिये गये इंटरव्यू में बातों- बातों ये कह दिया कि नरेंद्र मोदी और राजनाथ सिंह वोट बैंक पॉलिटिक्स की वजह से झूठ बोल रहे हैं। दरअसल जब ईटीवी उर्दू के संपादक गृहमंत्री और प्रधानमंत्री का वो बयान याद दिलाया जिसमें गृह मंत्रालय की खुफिया रिपोर्ट के आधार पर उन्होंने कहा था कि भारतीय मुसलमानों में कोई भी isis जैसे आतंकी संगठन कोई हमर्दद नहीं है और ना ही भारतीय मुसलमानों का isis के प्रति कोई झुकाव है। ये सुनते ही वो बिखर गये और उन्होनें कहा अगर मोदी और राजनाथ सिंह अगर ऐसा कह रहे हैं तो मैं ऐसा क्यों कहूं ? सब को वोट की जरुरत है। साथ ही वो इस तथ्य को मानने से इंकार कर दिया कि आइसीस जैसे संगठन में कोई हिंदुस्तानी मुसलमान शामिल नहीं है।

हाल ही में अल्पसंख्यक मामलों के राज्यमंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने आइएसआइएस को शैतानी गिरोह बताया है। उनके मुताबिक इस आतंकी गिरोह का इस्लाम से कोई लेना-देना नहीं है और यह सिर्फ इस्लाम को बदनाम कर रहा है। उन्होंने पश्चिमी देशों पर भी तेल संसाधनों पर कब्जे की होड़ में बगदादी जैसी शैतानी ताकतों को पालने-पोसने में मदद का आरोप लगाया।

राजनाथ सिंह ने भी इस बात को मानने से इंकार किया था। उन्होंने कहा था कि मुझे पूरा यकीन है कि भारतीय मुसलमान कभी भी ISIS जैसे आतंकी संगठन का साथ नहीं दे सकते। राजनाथ सिंह ने कहा था, ‘मैं अखबारों में पढ़ता हूं कि आईएस ने यह कर दिया, वह कर दिया। सीरिया में हमले हो रहे हैं, तमाम चीजें हो रही हैं, लेकिन गृह मंत्री होने के नाते मैं कहना चाहता हूं कि हिन्दुस्तान दुनिया का अकेला मुल्क है कि अगर कहीं कोई बच्चा सिरफिरा हो रहा होता है उसे रोकने का काम अगर कोई करता है तो हिन्दुस्तान के मुस्लिम लोग ही करते हैं।’

लेकिन पाकिस्तान में जन्मे 76 साल के तारिक फतेह देश की खुफिया एजेंसी और प्रधानमंत्री और गृहमंत्री के बयानों को नजरअंदाज करते हुए अड़े रहे। ऐसा माना जा रहा है मौजूदा मोदी सरकार के प्रति उनका सॉफ्ट कॉर्नर है और वह इस सरकार से आस लगाये है कि उन्हें भारत की नागरिकता मिल जाये। लेकिन टेलिविजन में प्रधानमंत्री और गृहमंत्री को बैंक पॉलिटिक्स के लिए झूठ बोलने वाला करार देने के बाद उनकी ये आस इस जिंदगी में मुश्किल लगती है।

ईटीवी के संपादक खुर्शीद रब्बानी को दिये गया ये इंटरव्यू सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है। जिसमें तारिक फतेह की झुठ की धज्जियां उड़ाई जा रही है।

TOPPOPULARRECENT