चुनाव आयोग ने अगर दिल्ली जैसा फ़ैसला लिया तो गिर जाएगी छत्तीसगढ़ की बीजेपी सरकार

चुनाव आयोग ने अगर दिल्ली जैसा फ़ैसला लिया तो गिर जाएगी छत्तीसगढ़ की बीजेपी सरकार
Click for full image

चुनाव आयोग ने दिल्ली के 20 विधायकों को ‘लाभ का पद’ रखने के मामले में अयोग्‍य घोषित कर दिया है।  ऐसा ही मामला छत्‍तीसगढ़ में भी है, जहां 11 भाजपा विधायक संसदीय सचिव के रूप में काम कर रहे हैं। जनसत्ता की रिपोर्ट के मुताबिक  कांग्रेस ने चुनाव आयोग से छत्‍तीसगढ़ के संसदीय सचिवों पर भी वही नियम लागू करते हुए उन्‍हें अयोग्‍य घोषित किए जाने की मांग की है। अगर ऐसा होता है रमन सिंह की सरकार पर खतरे के बादल मंडराने लगेंगे। 90 सदस्‍यीय विधानसभा में बीजेपी के 49 विधायक हैं, जबकि कांग्रेस के 39 और एक निर्दलीय तथा एक बसपा विधायक है। अगर 11 विधायकों को अयोग्‍य घोषित किया जाता है तो सदन में 79 सदस्‍य रह जाएंगे और बहुमत का आंकड़ा 40 हो जाएगा। ऐसे में भाजपा को इकलौते निर्दलीय और एक बसपा विधायक की मदद की जरूरत होगी। अगर उनका समर्थन भाजपा को नहीं मिलता तो बीजेपी हाथ से छत्‍तीसगढ़ फिसल सकता है।

Top Stories