Thursday , September 20 2018

इस्लाम धर्म अपनाने की दी थी धमकी : 70 साल बाद बाल कटवा रहे हैं वाल्मीकि समुदाय के लोग

यूपी के संभल जिले के फतेहपुर शमसोई गांव में प्रशासन के हस्तक्षेप के बाद गांव के नाई वाल्मीकि समाज के लोगों के बाल कटवाने को तैयार हो गए हैं। गांव के अगड़ी जाति द्वारा वाल्मीकि जाति के लोगों के बाल नहीं काटने की चेतावनी देने पर गांव के नाइयों ने अपनी दुकानें बंद कर दी थीं।
फतेहपुर शमशोई गांव के वाल्मीकि समाज के लोगों ने बाल नहीं कटवा पाने पर इस्लाम धर्म अपना लेने की धमकी दी थी। इस गांव में करीब 15 हजार ठाकुर और 250 वाल्मीकि परिवार रहते हैं।

 

 

इस गांव में अगड़ी जाति के फरमान के कारण बरसों से वाल्मीकि समाज के लोग गांव के नाई से न तो अपने बाल कटवा पाते थे और न ही दाढ़ी बनवा पाते थे।
गांव के रहने वाले सौरभ वाल्मीकी ने बताया कि करीब एक महीने पहले मेरे चचेरे भाई अनिल भूरा और ब्रजेश वाल्मीकि गांव में आसिफ अली की दुकान पर गए और अपने बाल कटवाए।

 

 

कुछ दिन बाद वे उसी दुकान पर दाढ़ी बनवाने गए तो नाई ने ऐसा करने से इनकार कर दिया। उसने बताया कि वाल्मीकि समाज के लोगों के बाल काटने पर गांव के अगड़ी जाति के लोगों ने उसकी पिटाई कर दी थी।

 

संभल के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पंकज पांडे ने बताया कि उन्हें वाल्मीकि समाज के लोगों के बाल न काटने की शिकायत गांव से मिली थी, लेकिन अब नाई वाल्मीकि समाज के लोगों के बाल काटने को तैयार हो गए हैं।

TOPPOPULARRECENT