अफजल गुरू के बेटे ने एक बार फिर पेश की मिशाल, 12वीं बोर्ड में भी पाया डिस्टिन्कशन

अफजल गुरू के बेटे ने एक बार फिर पेश की मिशाल, 12वीं बोर्ड में भी पाया डिस्टिन्कशन
Click for full image

जम्मू एंड कश्मीर स्टेट बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन (जेकेबीओएसई) की 12वीं के परीक्षा नतीजों का एलान 11 जनवरी यानी गुरुवार की सुबह किया गया, जिसमें साल 2013 में संसद पर हुए आतंकी हमले में दोषी ठहराए और फांसी की सजा पाए अफजल गुरू के बेटे गालिब अफजल गुरू ने एक बार फिर मिसाल पेश की है। उनहोंने 12वीं की बोर्ड परीक्षा में डिस्टिन्कशन हासिल किया है। बता दें कि उसने दो साल पहले 10वीं के बोर्ड एग्जाम में भी 95 फीसदी अंक हासिल किए थे।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

गालिब ने 12वीं की बोर्ड परीक्षा के 500 अंकों में से 441 अंक हासिल किए हैं। उसने इन्वॉयरमेंट साइंस में 94, केमिस्ट्री में 89, फिजिक्स में 87, बायोलॉजी में 85 और जेनेरल इंगलिश में 86 मार्क्स प्राप्त किए हैं।

गालिब ने साल 2016 में इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए कहा था कि वो मेडिकल की पढ़ाई कर उसमें करियर बनाना चाहता है। तब उसने कहा था कि “मैं मेडिकल की पढ़ाई करना चाहता हूं और एक डॉक्टर बनना चाहता हूं। यह हमारे परिवार और अभिभावकों का सपना है कि मैं डॉक्टर बनूं और इसे पूरा करने के लिए मैं खूब मेहनत करूंगा”।

आपको बता दें कि उसके पिता अफजल गुरू भी मेडिकल की ही पढ़ाई कर रहे थे, लेकिन उसने बीच में ही पढ़ाई छोड़ दी थी। 13 दिसंबर, 2001 को संसद पर हुए आतंकी हमलों के मामले में जब अफजल गुरू को गिरफ्तार किया गया था, तब गालिब की उम्र सिर्फ दो साल थी। साल 2013 में अफजल गुरू को फांसी दे दी गई थी।

Top Stories