अजमेर दरगाह ब्लास्ट: 22 मार्च को अदालत दोषियों को सजा सुनाएगी

अजमेर दरगाह ब्लास्ट: 22 मार्च को अदालत दोषियों को सजा सुनाएगी
Click for full image

जयपुर। शहर की न्यायालय अजमेर शरीफ दरगाह विस्फोट मामले में 22 मार्च को फैसला सुनाएगी। इस मामले में अदालत तीन आरोपियों को दोषी करार दे चुकी है और शनिवार को उनको सजा सुनाई जाने वाली थी। अदालत ने शनिवार को नौ साल पुराने मामले में तीसरी बार फैसला टाल दिया।

भावेश के वकील लोकेश शर्मा ने आईएएनएस को बताया कि शनिवार को जिरह पूरी हो गई। मामले के कुल 13 आरोपियों में से तीन अभी भी फरार हैं।

इससे पहले अदालत ने आठ मार्च को मामले में आरोपी भावेश पटेल, देवेंद्र गुप्ता और सुनील जोशी (मृत) को दोषी करार दिया था और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के नेता स्वामी असीमानंद सहित सात लोगों को बरी कर दिया था।

गौरतलब है कि अजमेर स्थित सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह परिसर में 11 अक्टूबर 2007 को हुए बम विस्फोट में तीन लोगों की मौत हो गई और 15 अन्य लोग घायल हुए थे।

 

Top Stories