Tuesday , July 17 2018

अफराजुल की बेरहमी से की गई हत्या में तालिबान की झलक दिखती है- अजमेर दीवान

अजमेर। अजमेर शरीफ दरगाह के दीवान ने राजसमंद में बेरहमी से हुई अफराजुल की हत्या को तालिबानी क्रूरता बताया है। दरगाह दीवान ने घटना की कड़े शब्दों में निन्दा करते हुए कहा कि एक सभ्य समाज में ऐसी घटना को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है।

अतिवादी ने जिस तरह जघन्य हत्या कर वीडियो वायरल किया वह तालिबानी आतंकी झलक है। सूफी संत हजरत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती के वंशज और दरगाह दीवान सैयद जैनुल आबेदीन अली खान ने कहा कि इस निर्मम हत्या ने इस देश में नफरत का बीज बोने का काम किया है. इस प्रकार का कृत्य धार्मिक भावनाएं भड़काने वाला है।

सरकार को इस पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई करते हुए एक मिसाल कायम करनी चाहिए। ताकि ऐसी घटनाएं दोबारा ना हों और समाज में आपसी सौहार्द और भाई चारा बना रहा।

दरगाह दीवान ने कहा कि शंभूलाल ने जिस प्रकार से अफराजुल का कत्ल किया और साथ ही उस पूरी घटना का वीडियो बनाया , वह तालिबानी आतंक से कम नहीं है।

उन्होंने कहा कि तालिबानी आतंकी भी इसी तरह निर्दोष लोगों का कत्ल करते हैं और वीडियो बनाकर दहशतगर्दी के लिए वायरल करते हैं।शंभूलाल ने भी उसी तरह तालिबानी आतंकवाद का अनुसरण करते हुए अपने घिनौने कृत्य का वीडियो बनाकर दहशत फैलाने का काम किया है।

TOPPOPULARRECENT