लखनऊ कोर्ट में पेश हुए अमीक जामेई, गौरक्षकों का विरोध करने पर योगी सरकार ने जेल में डाला था

लखनऊ कोर्ट में पेश हुए अमीक जामेई, गौरक्षकों का विरोध करने पर योगी सरकार ने जेल में डाला था
Click for full image

बीते दिनों गौरक्षकों के ख़िलाफ़ तिरंगा मार्च और भीम आर्मी के चीफ़ चन्द्रशेखर की रिहाई के लिए आन्दोलन छेड़ने वाले 22 बड़े युवा नेताओ को अगले 6 महीने तक कोर्ट के पेश होते रहना है।

लोकतांत्रिक तरीके से विरोध करने पर इन नेताओं को योगी सरकार ने तीन दिन जेल में भी डाल दिया था।

अमीक जामेई इन दिनों दलित, पिछड़ों और अल्पसंख्यकों को एकजुट करने में लगे हुए हैं और प्रदेश भर का दौरा कर रहे हैं।

इस मामले पर अमीक जामेई ने कहा है कि मुसलमान, दलित और पिछड़ों को डरने की ज़रूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि 85% लोग एक दिन दमन और तानाशाही के ख़िलाफ़ लड़ाई ज़रूर जीतेंगे।

उन्होंने कहा कि हम सरकार से मांग है कि जल्द से जल्द गौआतंकियों को रोकने के लिए कानून बनाया जाए और सरकार तुरंत चाद्रशेखर आज़ाद को रिहा करे। उन्होंने कहा कि अगर कानून के राज और इन्साफ के लिए जेल भरनी पड़े तो देश के युवा इसके लिए तैयार है।

 

Top Stories