अमेरिका की फर्ज़ी अदालतें तुर्की के ख़िलाफ़ मुक़दमा नहीं चला सकतीं: एर्दोगन

अमेरिका की फर्ज़ी अदालतें तुर्की के ख़िलाफ़ मुक़दमा नहीं चला सकतीं: एर्दोगन

न्यूयॉर्क: न्यूयॉर्क की संघी अदालत में ईरान के ख़िलाफ़ अमेरिकी पाबंदियों से बचने की एक योजना को मंज़ूरी दिए जाने के आरोप पर तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोगन ने कहा है कि अमेरिका की फर्ज़ी अदालतें तुक्री के ख़िलाफ़ मुक़दमा नहीं चला सकतीं।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

गौरतलब है कि एक ईरानी तुर्क कारोबारी रज़ा ज़राब ने अभियोजन के गवाह के तौर पर संघी अदालत के जज के सामने बयान दिया है कि एर्दोगन ने प्रधानमंत्री रहते हुए एक ऐसे योजना को व्यक्तिगत तौर पर मंज़ूरी दी थी, जिसका मकसद अमेरिकी पाबंदियों से बच निकलते हुए ईरान के साथ कारोबार करना था।

इनक्रा ने उस कथित गवाही पर सख्त प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि यह तुर्की की अर्थव्यवस्था को प्रभावित करने की एक कोशिश है और अमेरिका में मौजूद फतहल्ला गौलन नेटवर्क साजिश में व्यस्त है।

हालाँकि एर्दोगन ने अमेरिका की अदालत में मुकदमा का ज़िक्र नहीं किया है, लेकिन उहोने इसको ख़ारिज करते हुए कहा है कि यह राजनितिक बद निय्यती पर शामिल है ताकि तुर्क सरकार को गिरा दिया जाए।

एर्दोगन ने अपने देश के दुश्मनों को चेतावनी देते हुए कहा है कि किसी को इस खुशफहमी में रहना नहीं चाहिए कि हमारे देश का बंटवारा हो जायेगा। अपने देश की जनता से मुखातिब होते हुए उन्होंने कहा कि कोई यह न समझे कि इस देश को बांटा जा सकता है।

Top Stories