Thursday , November 23 2017
Home / Uttar Pradesh / RTI: अखिलेश राज में गौसेवा आयोग का 86 फीसदी फंड अकेले अपर्णा यादव के NGO को मिला

RTI: अखिलेश राज में गौसेवा आयोग का 86 फीसदी फंड अकेले अपर्णा यादव के NGO को मिला

योगी सरकार ने एक तरफ पूर्व की अखिलेश सरकार की कई योजनाओं पर जांच बैठा दी है, वहीँ दूसरी तरफ अब आरटीआई से बड़ा खुलासा हुआ है।

दरअसल एक आरटीआई से यह बात सामने आई है कि अखिलेश सरकार में उत्तर प्रदेश गो सेवा आयोग द्वारा गोरक्षा और गो सेवा करने वाली संस्थाओं को दिए गए अनुदान में 86% अनुदान सिर्फ अपर्णा यादव के जीव आश्रय संस्था को दिया गया।

बता दें कि अपर्णा यादव सपा संस्‍थापक मुलायम सिंह यादव के बेटे प्रतीक यादव की पत्नी हैं, जो कि जीव आश्रय संस्‍था नगर निगम के कान्हा उपवन, अमौसी स्थित गोशाला का संचालन करती हैं।

यह जानकारी आरटीआई एक्टिविस्ट डॉ नूतन ठाकुर को आयोग के जन सूचना अधिकारी डॉ संजय यादव द्वारा दी गयी सूचना से सामने आई है।

आरटीआई के जरिए मिली जानकारी के मुताबिक, एनजीओ जीव आश्रय को वित्त वर्ष 2012-13 में 50 लाख, 2013-14 में 1.25 करोड़ और 2014-15 में 1.41 करोड़ रुपये, गौसेवा आयोग द्वारा आवंटित किए गए। ठीक इसी तरह वित्त वर्ष 2015-16 में 2.58 करोड़ रुपये और 2016-17 में 2.55 करोड़ और, एनजीओ जीव आश्रय को आवंटित किए गए थे।

वहीं जारी वित्त वर्ष (2017-18) में विभिन्न गौशालाओं को 1.05 करोड़ रुपये आवंटित किए गए जबकि जीव आश्रय को अभी तक कोई राशि आवंटित नहीं की गई है। वहीं इस साल जिस गौशाला को सबसे ज्यादा राशि आवंटित की गई है वह ललितपुर की दयोदय गौशाला है। इस गौशाला को 63 लाख रुपये आवंटित किए गए हैं।

नूतन ठाकुर ने कहा, “फंड की रकम का 80 फीसद से ज्यादा किसी एक एनजीओ को देना इस बात की और साफ इशारा करता है कि पिछली सरकार के कार्यकाल में भाई-भतीजावाद की राजनीति की गई।”

 

TOPPOPULARRECENT