हरियाणा उर्दू अकादमी में अटल अदबी केन्द्र का किया गया लोकार्पण!

हरियाणा उर्दू अकादमी में अटल अदबी केन्द्र का किया गया लोकार्पण!

सूचना, जनसंपर्क एवं भाषा विभाग, हरियाणा के महानिदेशक समीर पाल सरो व डीजी, विजिलेंस डॉ के पी सिंह ने हरियाणा उर्दू अकादमी के प्रांगण में अटल अदबी केंद्र/पब्लिक लाइब्रेरी का लोकार्पण कर जनता को समर्पित किया।

जनता को इस लाइब्रेरी में ऐतिहासिक, राजनैतिक, साहित्यिक, सामाजिक, आध्यात्मिक, आलोचनात्मक एवं शोधात्मक पुस्तकों के अलावा देशभर की हिन्दी व उर्दू की पत्र-पत्रिकायें पढ़ने को मिलेंगी।

खास खबर पर छपी खबर के अनुसार, उन्होंने हरियाणा उर्दू अकादमी द्वारा प्रकाशित पुस्तकों एवं पूर्व में स्थापित लाइब्रेरी का भी अवलोकन किया और निदेशक चंद्र त्रिखा को इस अकादमी में और ज्यादा सुविधाएं बढ़ाने के साथ.साथ भाषा वैज्ञानिकों को पुरस्कार समय.समय पर देने के निर्देश दिए।

इस अवसर पर उर्दू और हिंदी का लिसानी भाषाई रिश्ता पर आयोजित सेमिनार में हिंदी एवं उर्दू भाषा के उच्च स्तर के विद्वानों ने भाग लिया जिनमें शीन काफ निजामए विज्ञान व्रत, डॉ. अतहर फारूकी, डॉ. माधव कौशिक, डॉ हबीब सैफी के नाम उल्लेखनीय है।

उन्होंने भूतपूर्व प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपाई के नाम से एक अदबी मरकज और आर्टगैलरी का उद्घाटन किया। इसके अलावा छः पुस्तकों का विमोचन भी किया गया, जिनमें मोहिन्द्र प्रताप चाँद और डॉ. हिम्मत सिंह सिन्हा नाजिम द्वारा लिखी गई पुस्तक उर्दू अदब और हरियाणा एवं अदबी सिलसिले के तहत डॉ. राणा गन्नौरी, मोहिन्द्र प्रताप चाँद, डॉ. कुमार पानीपती, डॉ. के.के.ऋषि, डॉ. हिम्मत सिंह सिन्हा नाजिम पर उर्दू और हिंदी भाषा में लिखी गई किताबें शामिल हैं।

सेमिनार में विद्वानों ने दोनों भाषाओं पर अपने-अपने विचार प्रकट किए। सेमिनार के दौरान हिन्दी व उर्दू भाषा के परस्पर संबंध को दर्शाने के लिए लिपट जाता हूं मां से और मौसी मुस्कुराती है, मैं उर्दू में गजल कहता हूं हिन्दी मुस्कुराती है, नामक थीम का भी लोकार्पण किया गया।

Top Stories